Tag Archives: गुमनाम शायरी

शायरी – जल रही है तेरी चाहत जिस सीने में

love shayari hindi shayari

कोई गुमनाम भटकता है सहरा में
कोई प्यासा तरसता है सहरा में

जल रही हैं तेरी चाहत जिस सीने में
वही आशिक सुलगता है सहरा में

इस जमाने में उसको लैला न मिली
उसे तलाशने निकला है सहरा में

मौत भी आएगी तो बड़ा खुश होगा
इतना दीवाना बना है वो सहरा में

सहरा- वीराना

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

शायरी – शबनम तेरे सागर की एक बूँद ही तो है

prevnext

रू-ब-रू आग के जब आईने बन गए
आस्मा के दिल में तब एक चाँद बन गए

शबनम तेरे सागर की एक बूँद ही तो है
वही बूँद मेरी आँखों की जुबां बन गए

ख्वाबों के तमाशों से हम उबर नहीं पाए
इस मेले में खोकर यूँ गुमनाम बन गए

मजारों पे कितने ही शम्मे जलाए हमने
यादों के शहर भी अब श्मशान बन गए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – वो दिल से जलता रहा, जिस्म से बुझता रहा

new prev new next

गर्दिशे-इश्क में एक जुगनू चमकता रहा
वो दिल से जलता रहा, जिस्म से बुझता रहा

उसके आंसू लफ्ज बने, उसकी खामोशी राग बनी
वो नगमा बन गूंजता रहा, खुशबू बन उड़ता रहा

इस दुनिया की नजर में वो गुमनाम रहा
वो रात को जगता रहा, दिन को सोता रहा

वो मुफलिस था, बर्बाद था और बहुत बदनाम था
मगर दिल की दुनिया में वो जीता-मरता रहा

एक दर्द की दरिया बहता रहा उस सागर में
वो जुगनू एक शायर था, सदियों तक चमकता रहा

©RajeevSingh