Tag Archives: गुमसुम शायरी

शायरी – समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है

love shayari hindi shayari

समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है
तेरी आंखें उस खूबसूरत सी लगती है

तेरे दामन सा फैला है उसका आंचल
उसकी जुल्फें तेरी लहरों सी लगती है

उसकी बाहों में खुशियों के मोती है
वह भी गहरी सी, गुमसुम सी लगती है

मासूम जज़्बातों के लहू से बनी है वो
उसकी परछाई तेरे पानी सी लगती है

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

शायरी – एक गुमसुम सी फूल के खातिर मैं कांटों पे सोया

love shayari hindi shayari

प्यासी निगाहें बरस गई, बरसी निगाहें तरस गई
सावन की आई बारिश में कितनी नदियां टूट गई

मेरे सागर में एक कश्ती तूफानों से डरती थी
सैलाबों से लड़ते-लड़ते वो भी एक दिन डूब गई

एक गुमसुम सी फूल के खातिर मैं कांटों पे सोया
लेकिन वो खुद से रूठी थी, हमसे भी रूठ गई

बाली उमर में बुझता चिरागां शम्मे को दर-दर ढूंढे
वो बुझा उसकी गली में, जब वो शम्मा बुझ गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari