Tag Archives: गैर शायरी

शायरी – छुपते हैं बेवफा जब मुस्कुराहटों के पीछे

love shayari hindi shayari

अंधेरी तन्हाई में हम तबसे बुझ रहे हैं
गैरों के घर में जबसे शम्मे जल रहे हैं

छुपते हैं बेवफा जब मुस्कुराहटों के पीछे
देखिए किस अदा से दो होठ हिल रहे हैं

गिरते हैं ठोकरों से और चोट भी खाते हैं
पथरीले रास्तों पे हम फिर भी चल रहे हैं

कमसिन सी एक पुरवाई बन गई है आंधी
ये किसकी आह है जो मौसम बदल रहे हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुम थी मिली उस मोड़ पे, जिस मोड़ पे कोई न था

love shayari hindi shayari


अपने भी सारे गैर थे, गैरों में अपना कोई न था
तुम थी मिली उस मोड़ पे, जिस मोड़ पे कोई न था

तेरे वजह से गीत के सुर-ताल को मैं पा सका
पहले तो बस लफ्ज थे पर लय उनमें कोई न था

तुम मशाल हो अंधेरे में तो रोशनी मेरे दिल में है
सारे चिराग बुझ गए, तेरे सिवा और कोई न था

मैं आज तुमसे दूर हूं, तुमपे गजल मैं लिख रहा
तुम जब जुदा हुए थे तब मेरा हमसफर कोई न था


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari