Tag Archives: घायल शायरी

शायरी – सांसों की कशमकश में कितने शहर बदल चुके

new prev new shayari pic

ऐ जिंदगी तेरे इश्क में पागल भी हम हो चुके
कांटों से नहीं, हम यहां फूलों से घायल हो चुके

अपने हमें समझाते रहे दुनिया की वो रवायतें
हम समझ न पाए तो अपने घर से निकल चुके

मोम सा जलते रहे हम चांद की खातिर रातभर
बुझ गए हैं आज हम जो पूरी तरह पिघल चुके

एक जगह रुकने से अब घुटता है क्यों दम मेरा
सांसों की कशमकश में कितने शहर बदल चुके

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – कांटों के इस चमन में हम घायल गिर पड़े

love shayari hindi shayari

सावन के मौसम में घटाएं उमड़ पड़े
किश्तों में आसमान से बादल गिर पड़े

हमको नहीं खबर कि रहगुजर है कैसा
जाने क्या हुआ कि तेरे कूचे में चल पड़े

काबू नहीं है अब मुझे जेहनो-जिगर पे
मुझसे बिना पूछे मेरे आंसू निकल पड़े

अपना ये गुलिस्तां है जिसमें गुल ही नहीं है
कांटों के इस चमन में हम घायल गिर पड़े

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – प्यासे ही रह गए यहां दिलरूबाओं के सनम

love shayari hindi shayari

भूले नहीं है दर्द को हमसाया समझ के हम
जाएंगे हम जहां-जहां वहां चलेंगे दर्दो-गम

कितनी उदास सी फिजा, कितना वीरान आस्मा
गुलशन में चारों ओर है रोता हुआ मेरा चमन

दुनिया के रेगिस्तान से कोई उम्मीद क्या करें
प्यासे ही रह गए यहां दिलरूबाओं के सनम

दो बरस का हादसा उम्रभर होता रहा
घायल सी तन्हाइयों में अब चोट खा रहे हैं हम

शायरी – जानती हूं तुझे जाने कितनी सदी से

love shayari hindi shayari

ठहर जा ऐ सावन, ठहर जा ऐ बादल
बहने दे निगाहों से थोड़ा तो काजल

छोड़के ओ फरिश्ते तुम जा न सकोगे
जब चिड़िया तुम्हीं से हुई है रे घायल

जानती हूं तुझे जाने कितनी सदी से
जुदाई में भीगा है बरसों से आंचल

अब तू ही बस सहारा है ऐ खुदा मेरे
बिन तेरे लगता है हो जाऊंगी पागल

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari