Tag Archives: चमन शायरी

शायरी – कांटों के इस चमन में हम घायल गिर पड़े

love shayari hindi shayari

सावन के मौसम में घटाएं उमड़ पड़े
किश्तों में आसमान से बादल गिर पड़े

हमको नहीं खबर कि रहगुजर है कैसा
जाने क्या हुआ कि तेरे कूचे में चल पड़े

काबू नहीं है अब मुझे जेहनो-जिगर पे
मुझसे बिना पूछे मेरे आंसू निकल पड़े

अपना ये गुलिस्तां है जिसमें गुल ही नहीं है
कांटों के इस चमन में हम घायल गिर पड़े

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – थे करीब हम-तुम लेकिन बंदिशें थी बेहिसाब

love shayari hindi shayari

क्यूं है सर्द-सर्द चांद, क्यूं है जलता आफताब
क्यूं हैं ये खामोश तन्हा, कौन दे इसका जवाब

कुछ दिनों तक लिख न पाया मैं कोई भी गजल
उन दिनों मैं भूल गया करना जख्मों का हिसाब

तेरी यादों संग बैठा अपने चमन की वीरानी में
उजाड़कर ले गयी ये दुनिया मेरे बगीचे का गुलाब

फासला दो-चार कदम का तय न कर पाए कभी
थे करीब हम-तुम लेकिन बंदिशें थी बेहिसाब

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं

love shayari hindi shayari

ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं
खा कसम मेरी कि तू रातभर रोयी नहीं

बन गयी है जुल्फें तेरी उजड़ी-उजड़ी सी बहार
आंधियों में घिर के भी तू चमन से गई नहीं

ये तेरा उदास चेहरा, ये तेरी गमगीन आंखें
आने से पहले जरा तू आईने में झांकी नहीं

हूं मैं हैरां देखकर कि क्या ये तेरा हाल है
इश्क में मुझपे कभी ऐसी कयामत आती नहीं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – हम रुसवा हुए तेरे नाम से, मुहब्बत में ये सिला तो दिया

prevnext

हम रुसवा हुए तेरे नाम से, मुहब्बत में ये सिला तो दिया
जुबां पे वफाई बहुत थी तेरी, जुबां से सही, कुछ तो दिया

बहारों के सीने में थी जो जलन, चरागों से रोशन था जो चमन
उजालों से तूने मुंह फेरकर, अंधेरा ही सही, कुछ तो दिया

तेरी उल्फत में हम रोये बहुत, हंसे भी तो आंसू आ ही गए
तूने मेरा दामन छोड़कर, दर्द ही सही, कुछ तो दिया

मेरे मुकद्दर में लिखी न थी तुम, तुमको खतावार किस मुंह से कहूं
मेरे दिल को तूने यूं तोड़कर, तन्हाई ही सही, कुछ तो दिया

जमाने के दिल में जज़्बात नहीं, हम भी सनम कुछ वैसे ही थे
तुमने मुझे जज़्बाती बनाकर, आंसू ही सही, कुछ तो दिया

©RajeevSingh