Tag Archives: चांदनी शायरी

शायरी – दर्द मिलता है इश्क के रहगुजर की कैद में

prevnext

जिंदगी की हर मंजिल मुकद्दर की कैद में
आज भी है मेरा साहिल समंदर की कैद में

कदम कदम पर चुभकर नश्तर ने ये कहा
दर्द मिलता है इश्क के रहगुजर की कैद में

जिस हसीं को देखकर गुम हो गया था मैं
खोया है तबसे दिल उसी मंजर की कैद में

रोते हुए बादल को है सदियों से ये खबर
जलती हुई चांदनी है एक पत्थर की कैद में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

 

Advertisements

शायरी – है कौन सा ये शहर, जहां कोई न हमसफर

#100 दर्द शायरी

है कौन सा ये शहर, जहां कोई न हमसफर

बस्तियों में गुल खिले हैं, पर खुशबू है बेअसर

सुबहो शाम उदास है, रात रोती कराह कर

धूप निकलता शोला सा, चांदनी थोड़ी मुरझा कर

  1. तेरे इश्क में दीवाना मरता नहीं कभी
  2. माना कि तेरे हुस्न के काबिल नहीं हूं मैं
  3. कोई इल्ज़ाम न लेगी वो अपने सर पे
  4. आह और दर्द बस तेरा तलबगार हुआ
  5. तू न आई तो अधूरी है जिंदगी की गजल

शायरी – कब तू मुझे समझेगी, बस यही सोचता हूं मैं

love shayari hindi shayari

एक नजर की जुस्तजू में तुझे देखता हूं मैं
कब तू मुझे समझेगी, बस यही सोचता हूं मैं

करीब से गुजरती हो तो मचल उठता है दिल
न जाने किस तरह रोज खुद को रोकता हूं मैं

तेरे हुस्न की चांदनी में मेरा इश्क हुआ रोशन
चांद के साये को दरिया में बहुत ताकता हूं मैं

इन मदभरी जुल्फों में खो जाऊंगा एक दिन
तेरे ख्वाबों की इन रातों में, यही चाहता हूं मैं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – इश्क में दिल मेरे ये तो होना ही था

love shayari hindi shayari

आसमां देखने में खता हो गई
चांदनी आज मुझसे खफा हो गई

मेरे कदमों ने जिसपे भरोसा किया
राह अक्सर वही बेवफा हो गई

जिंदगी ऐसे मंजर दिखाती रही
मुझमें रोने की ताकत दफा हो गई

इश्क में दिल मेरे ये तो होना ही था
एक खुशी थी जो हमसे जुदा हो गई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – तेरी जुल्फों तले सोया रहूं आंखें बंदकर

love shayari hindi shayari

बस यही ख्वाब है कि जीवन तेरे संग गुजरे
जो पल आए, वो पल बस तेरे संग गुजरे

तेरी जुल्फों तले सोया रहूं आंखें बंदकर
तुम बांहों में रहो और रात ये संग गुजरे

चांद देखता रहे हमें एकटक बेखुद होकर
प्यार चांदनी में करें, ये दरिया संग गुजरे

बिखर जाए खुशबू, फिजा नाचे झूमकर
हर राह में यूं मुहब्बत हमारे संग गुजरे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आप मिलती तो मैं खुद से ना जुदा होता

love shayari hindi shayari


आपने अपना नामो-निशां छोड़ा होता
तो मेरे खत का लिफाफा नहीं कोरा होता

ये हकीकत है कि आप सा कोई ना मिला
आप मिलती तो मैं खुद से ना जुदा होता

मुझे पता है मेरी रूह में बस आप ही हैं
काश! आपकी रूह में मेरा भी पता होता

बह रही है जमीं पे चांदनी की नदी
तैरते साये का कोई तो किनारा होता


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मौसम तन्हा-तन्हा है तेरी खुशबू के बिना

love shayari hindi shayari

चांद के नीचे चिरागों को जलाया करते हैं
चांदनी रातों में हम आग लगाया करते हैं

मौसम तन्हा-तन्हा है तेरी खुशबू के बिना
तुमको सारे फूल बहारों के पुकारा करते हैं

जब तेरी खामोश अदा देखी हमने एक दिन
तबसे हर अदा में तुमको बसाया करते हैं

क्या अमावस, क्या पूर्णिमा, तू ही है साथ नहीं
रात कोई भी आए, खुद को रुलाया करते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तन्हा ये जिंदगी मेरी उस ओर हमको ले गई

love shayari hindi shayari

वो बड़े उदास से आए थे, और खुद में ही समाए थे
मुझे ये खबर ना हो सकी, वो मेरी तलाश में आए थे

बेखुदी में भी उन्हें खामोशी पे बड़ा इख्तियार था
वो हमें जो कहके जा चुके, हम उन्हें समझ न पाए थे

अब चांदनी फिजा में भी इक रोशनी है बहार की
अहसासे-इश्क जब हुआ तब हम ये देख पाए थे

तन्हा ये जिंदगी मेरी उस ओर हमको ले गई
जिस ओर की तन्हाई में उन्हें याद हम कर पाए थे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे जाने की अब किससे शिकवा करें

love shayari hindi shayari

घुल गई आग इस चांदनी में कहीं
खो गया दर्द इस रागिनी में कहीं

रो रही थी आज मेरी शाम-ए-गजल
अश्क गिरता रहा मौशिकी में कहीं

दिल के टुकड़ों में जल रहे हैं कई गम
सबकुछ बुझ गया इस रोशनी में कहीं

तेरे जाने की अब किससे शिकवा करें
ये जुबां मर चुकी है आशिकी में कहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इश्क एक मजबूर ही इस जमीं पे कबसे है

new prev new shayari pic

चाँदनी बड़ी दूर ही आसमा पे कबसे है
इश्क एक मजबूर ही इस जमीं पे कबसे है

आज सुनता हूँ कहीं पर हो गया ये हादसा
प्रेमियोँ को फूँकने का रस्म यहाँ पे कबसे है

प्यार ये अपनों से भी भला क्यूँ करने लगे
खून के रिश्तों में भी दुश्मनी ये कबसे है

अक्ल से जो काम लेंगे, क्या करेंगे वो वफा
दिल को सौदागर बनाने का चलन ये कबसे है

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – मैं दर्द की थी चाँदनी, वो उदास सा एक चाँद था

love shyari next

वो खुद से यूं खफा हुआ, मेरी जिंदगी से चला गया
नाकामियों के हर्फ से एक खत मिला लिखा हुआ

जो बहार से दगा करे वो खिजां से क्या वफा करे
बेदर्द इस तकदीर को मेरे इश्क से भी गिला हुआ

मेरे ख्वाब पूरे होने से पहले ही वो जगा गया
दिल तोड़के जो है गया उसे क्या खबर मेरा क्या हुआ

मैं दर्द की थी चांदनी, वो उदास सा एक चांद था
जब मैं जमीं पे गिरी वो फलक पे था गिरा हुआ

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जी नहीं लगता आशियां में तेरे बिन शाम ढले

love shyari next

छू गई वो चांदनी काली घटा में छुप गई
इश्क की शमा जलाकर वो शहर में खो गई

हर अंधेरे में उजाला आस बनकर रहता है
तेरे आने की हर आहट जुगनू बनकर बुझ गई

जी नहीं लगता आशियां में तेरे बिन शाम ढले
रातों के इन रहगुजरों पे जिंदगी तन्हा रह गई

आईना दिल की दास्तां को रोज ही दुहराता है
एक कयामत संवर के उसमें, उसका दिल तोड़ गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – शराबे-इश्क को पीकर बहक रहा था कोई

love shayari hindi shayari

हवा तो सर्द थी लेकिन सुलग रहा था कोई
चांदनी रात में तन्हा झलक रहा था कोई

हुआ है क्या शहर में उसे खबर ही नहीं
शराबे-इश्क को पीकर बहक रहा था कोई

मोड़ कितने ही मिले पर कहीं मुड़ा था नहीं
बस एक राह पे चलता सिसक रहा था कोई

किसी से उसका मरासिम रहा होगा शायद
यादों में डूबके आंखों से छलक रहा था कोई

(मरासिम-संबंध)

©RajeevSingh #love shayari