Tag Archives: चिराग शायरी

शायरी – दर्द कम न हो कभी इस दिल में

love shayari hindi shayari


दो चिरागों को आग मिल जाए
दो दीवानों की आंख मिल जाए

हुस्न और इश्क पास बैठे हों
कोई तो ऐसी शाम मिल जाए

दोनों रूहों का कुदरती रिश्ता
काश दोनों को खबर मिल जाए

दर्द कम न हो कभी इस दिल में
चांद को भी तो दाग मिल जाए


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – जिस दिल पे इश्क का दाग है

love shayari hindi shayari


जिस दिल पे इश्क का दाग है
उस चांद पे न नकाब है

घर-घर में वो ही उदास है
जिस हुस्न पर ये शबाब है

ऐ खुदा, मुझे गिन के बता
मेरे जख्म का क्या हिसाब है

जो बेवफाई से ही जला
ये जहान ऐसा चिराग है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कसम देकर मेरी राह भूल जाओगी तुम

love shayari hindi shayari

तुझे हम बेवफाई का ये सिला दे जाएंगे
उम्रभर तेरे गम में खामोश रह जाएंगे

कसम देकर मेरी राह भूल जाओगी तुम
हम किसी मोड़ पे मुंतजिर दिख जाएंगे

जिन चिरागों को जलना नसीब न हुआ
जुदा होके तेरी यादों से वो जल जाएंगे

कितना बेबस हुआ जिंदगी में तेरे बिना
अब चाहकर भी तुमसे न मिल पाएंगे

मुंतजिर- इंतजार में

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – इतने नादान हो फिर भी दिल लगाते हो

love shayari hindi shayari

इतने नादान हो फिर भी दिल लगाते हो
इतने नाजुक हो, क्यूं पत्थर से टकराते हो

रु-ब-रु आती है वो तो छुप जाते हो
इतने प्यासे हो कि पानी से घबराते हो

आरजू पा ही गए तुम हुस्ने जानां की
तुम भी रातों में तन्हा सा गजल गाते हो

शोला भड़का है दिल के सनमखाने में
चिरागों की तरह खामोश नजर आते हो

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – जगती रातों में तू मेरे अंदर कहीं पे रहती है

love shayarihindi shayari

महकी सांसें, दुखता सीना, रोती आंखें कहती है
जगती रातों में तू मेरे अंदर कहीं पे रहती है

दरिया के आंसू में डूबा एक चिराग बुझ गया
लेकिन दिल में डूबके भी तेरी शम्मा जलती है

देखकर मैं रूक गया था, दूर तू जाती रही
ऐसा अक्सर ही होता है जब राहों पे तू मिलती है

लिखते-लिखते सो गया था आज भी तुमपे गजल
पर मेरे ख्वाबों में आकर ये गजल तू गाती है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – महसूस हुआ ये जब दुनिया में वो मिला

love shayari hindi shayari

महसूस हुआ ये जब दुनिया में वो मिला
कांटों की भीड़ में वो एक फूल सा खिला

कैसे बुझेगा जाने शबे-गम का इंतजार
बेसब्र सा एक चिराग फलक पे है जला

क्या खूब है जवानी और आलमे-तन्हाई
है दूर तलक उसकी ही यादों का सिलसिला

मिलता तो है करीब से पर बाकी है कसर
दूरी तो घट गई मगर अब भी है फासला

©RajeevSingh #love shayari