Tag Archives: जमाना शायरी

शायरी – दिल जमाने को समझेगा आखिर कब

new prev new shayari pic

ठोकरें खाना बंद करेगा आखिर कब
दिल जमाने को समझेगा आखिर कब

मुद्दतों से मुझे ख्वाब दिखा रहा है वो
सारे ख्वाब तोड़ जाएगा आखिर कब

हाल रिश्तों का एक दिन बुरा होते देखा
तू भी तो मुझे धोखा देगा आखिर कब

आईने से कई बार ये पूछती रहती हूं मैं
मेरा वजूद मुझे तलाशेगा आखिर कब

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – फिर उस जख्म को जीने का बहाना याद आया

new prev new shayari pic

भूल गया था जो मंजर, वो जमाना याद आया
मुद्दतों बाद दिखी तुम, वो फसाना याद आया

नए शहर की गलियों में खुशी खोज ली तुमने
पुराने शहर की गलियों का वो रोना याद आया

आबाद हो गई किसी की जिंदगी तेरे आ जाने से
किसी को अपनी बर्बादी का तराना याद आया

एक नया दर्द फिर आगोश में ले रहा है मुझे
फिर उस जख्म को जीने का बहाना याद आया

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – न आंखों को चैन न जिगर को करार आया

love shayarihindi shayari

न आंखों को चैन न जिगर को करार आया
मेरे हिस्से मोहब्बत में बस इंतजार आया

वो मिल न सकी फिर भी उससे मिलते रहे
खयालों में उसपे मैं सबकुछ निसार आया

बरसता रहा गम आंखों से सावन की तरह
हर मौसम मेरे लिए दर्द की फुहार लाया

अब न रहा कुछ भी इस जमाने से वास्ता
तुझे खोकर दुनिया के रिश्ते बिसार आया

बिसारना- भुलाना

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – फिर भी तुम पास हो, ये कैसी जुदाई है

love shayari hindi shayari

मेरी बर्बादी किस हद पे उतर आई है
बेरहम याद है और रात ये हरजाई है

आग इक हमने इस सीने में सुलगाई है
दूसरी आग भी जमाने ने अब लगाई है

कई बरसों से हम तुमसे मिले ही नहीं
फिर भी तुम पास हो, ये कैसी जुदाई है

हमने उसको ही नजाकत से अपनाया है
वो कली जो किसी गुलशन में मुरझाई है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – लिखने चला था अपना दर्द मगर

#100 दर्द शायरी

आंसू भरी निगाह से देखा जमाने को

जिधर भी देखा, आंसू नजर आया

लिखने चला था अपना दर्द मगर

जमाने का दर्द गजलों में भर आया

  1. ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं
  2. मेरे दिल पे छा गया है इश्क का ऐसा जुनूं
  3. इश्क सच्चा हो तो वो तमाशा क्यूँ बने
  4. तस्वीर के मानिंद ही आँखों में आ ज़रा

शायरी – मौत से इश्क को मुहब्बत है

love shayari hindi shayari


दर्द ही इश्क की हकीकत है
मौत से इश्क को मुहब्बत है

बादल आवारा चांद क्यूं पाए
रोनेवालों की यही किस्मत है

ये जमाना तो मेरा दुश्मन है
और जमाने से मुझे नफरत है

कैसे भुलूं मैं जिंदगी में तुझे
मेरी तन्हाई की तू जरूरत है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज की रात बरसेगा रातभर

love shyari next

आज की रात बरसेगा रातभर
अश्क नजरों से बहेगा रातभर

जुदाई के हाथ में खंजर होगा
मेरा सीना छलनी होगा रातभर

बेखुदी दिल में रहेगी मेजबानी में
दर्द मेहमान बन रहेगा रातभर

जिसने ठुकराया हमें जमाने में
आज वो याद आएगा रातभर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द की लहरों से जब भीगती है ये आंखे

love shayari hindi shayari

नजरे-मुहब्बत का बस इतना है फसाना
हम तुझे देखते हैं, हमें देखे है जमाना

दलदल भरे रिश्तों से बचके निकल चले
कसम खाए हैं, अब खुद को नहीं रुलाना

चांद की तन्हाई में अब यूं खो चुका हूं मैं
ऐ सितारों अपनी भीड़ में हमको न बुलाना

दर्द की लहरों से जब भीगती है ये आंखे
बहुत मुश्किल होता है समंदर को दबाना

नजरे मोहब्बत- मोहब्बत की नजर

शायरी – तेरे आने से मैं अपना चमन भूल गई

love shayari hindi shayari

तेरे आने से मैं अपना चमन भूल गई
जो निभाना था घर से, वो वचन भूल गई

सात जनमों की भला कौन खबर रखे
तेरी दहलीज पे जब मैं ये जनम भूल गई

क्या जमाना भी करेगा हमसे शिकवा
जब जमाने के कीए सारे सितम भूल गई

दीवानी होकर तेरे पास चली आई हूं
तुमको देखा तो दिल की लगन भूल गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अपने ही रिश्तों में रहती है ख्वाहिशें इतनी

love shayari hindi shayari

प्यार पाने को शहर के लोग जाते हैं तरस
ये प्यासे लोग क्या जी सकेंगे सौ बरस

अपने ही रिश्तों में रहती हैं इतनी ख्वाहिशें
पूरी न हो तो करते हैं सब एक-दूजे से बहस

घंटों वो परेशान रहे खुशियों की तलाश में
पाया नहीं एक पल भी किसी खुशी का दरस

दुनिया इसी में रफ्ता-रफ्ता मरती जा रही है
शायर की नजर से देखा है जमाने का ये सच

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुम्हारे गम से दिल रोता रहा रातभर तन्हा

love shayari hindi shayari

जमाना सो गया और मैं जगा रातभर तन्हा
तुम्हारे गम से दिल रोता रहा रातभर तन्हा

मेरे हमदम तेरे आने की आहट अब नहीं मिलती
मगर नस-नस में तू गूंजती रही रातभर तन्हा

नहीं आया था कयामत का पहर फिर ये हुआ
इंतजारों में ही मैं मरता रहा रातभर तन्हा

अपनी सूरत पे लगाता रहा मैं इश्तहारे-जख्म
जिसको पढ़के चांद जलता रहा रातभर तन्हा

(इश्तहारे-जख्म-  जख्म का इश्तहार)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – डूबकर मर गया हुस्न में वरना

love shayari hindi shayari

मेरे दर्द से उसको मतलब नहीं होता
बेवफा का दिल मेरा आशिक नहीं होता

देखती है जमाने में वो हर तरफ लेकिन
उसका चेहरा कभी मेरे जानिब नहीं होता

डूबकर मर गया उस हुस्न में वरना
इश्क मेरा दुनिया में साबित नहीं होता

जिंदगी भर तेरे जलवों में जलता रहा
रू ब रू अब कोई आतिश नहीं होता

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इश्क मुझको है तुमसे, चीजों से नहीं

love shayari hindi shayari

मेरे जीवन में बड़ी दूर तक वीरानी है
इस जमाने को इस बात पे हैरानी है

एक मुद्दत से खुला है मेरा दरवाजा
चोर तक को यहां आने में परेशानी है

इस फकीरी में भला कौन साथ देता है
लोग कहते हैं कि यह मेरी नादानी है

इश्क मुझको है तुमसे, चीज़ों से नहीं
दिले-नाचीज है कि तू भी दीवानी है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari