Tag Archives: जहान शायरी

शायरी – जिस दिल पे इश्क का दाग है

love shayari hindi shayari


जिस दिल पे इश्क का दाग है
उस चांद पे न नकाब है

घर-घर में वो ही उदास है
जिस हुस्न पर ये शबाब है

ऐ खुदा, मुझे गिन के बता
मेरे जख्म का क्या हिसाब है

जो बेवफाई से ही जला
ये जहान ऐसा चिराग है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – नजर की लाज बच गई तुझे देखके ऐ जानेजां

love shayari hindi shayari

ईमान से वो गिर गए पर उठ गए बेईमान से
शैतान जो पर्दे में थे, वो पूजे गए इंसान से

पत्थर से पूछ बैठे हम आईनों के हाले-दिल
उनका जवाब आया कि लगते हो तुम नादान से

करवट बदलता रह गया ये रोशनी आठों पहर
सब देखो परेशान हैं जीवन की सुबहो शाम से

नजर की लाज बच गई तुझे देखकर ऐ जानेजां
वरना मैं तो नाराज था बेवफाओं के जहान से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज भी इंसानी दुनिया रीत में पुरानी है

love shayari hindi shayari

आज भी इंसानी दुनिया रीत में पुरानी है
कितनी सदियां बीत गई और वही कहानी है

जोड़ सकना भी खुदा के हाथ की अब बात नहीं
हर तरफ इस जहान में टूटने की निशानी है

दूसरों की खुशियों से जलते रहते हैं जो लोग
उनको तो पूरी बस्ती में आग ही लगानी है

बातों बातों में ही अक्सर वो धोखे दे जाते हैं
और मेरी खामोशी से होती उनको परेशानी है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरे लब चूम लेते माहजबीं को मगर

love shayari hindi shayari

अपनी जान गंवा दी, ये जुबां गंवा दी
हमने तेरे खातिर दो जहान गंवा दी

जब चांद का हुस्न देखा हमने अचानक
रातों में इश्क की नई दुनिया बसा दी

सीने में टूटे थे दिल के हजार टुकड़े
उन टुकड़ों में तूने एक तस्वीर बना दी

मेरे लब चूम लेते माहजबीं को मगर
उसने जुदा रहने की जिंदगीभर सजा दी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरा इश्क तो सरेआम है और दिल बड़ा बदनाम है

love shayari hindi shayari

जहान से अब जाने दो, इस मुकाम से अब जाने दो
कितने बरस तेरे बिन जीऊं, तेरा नाम लेकर जाने दो

तू मिली थी तो नसीब था कि मिला नहीं तुमसे कभी
मेरे दिल में जो दबी रही वो अरमान अब दफनाने दो

मेरा इश्क तो सरेआम है और दिल बड़ा बदनाम है
बेदाग से इस चांद पे कुछ दाग तो लग जाने दो

तू जो सामने आए कभी, तेरे सितम की मैं दाद दूं
और फिर कहूं तुझे अलविदा, कोई ऐसा पल आने दो

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – राहत नहीं उस चांद को, हर आग को जो सह गया

love shayari hindi shayari

मेरा दर्द भी बेरंग था जो आंसुओं में घुल गया
था इश्क का ये खून जो मेरी नजर से बह गया

इस जहान की गली-गली ईमान से वीरान थी
इस पाप की नगरी में ये दिल कहीं पे मर गया

सूने महल की सेज पर तन्हा सा बादशाह था
जब लुट गई रियासतें, कोई साथ भी न रह गया

मेरे दर्द के चिराग को जलने से है फुरसत कहां
राहत नहीं उस चांद को, हर आग को जो सह गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari