Tag Archives: जानेमन शायरी

शायरी – एक तू है जो रोए तो दामन बिछा देते हैं लोग

new prev new shayari pic

तेरी जिंदगी भी जानेमन कितनी बेमिसाल है
सारी दुनिया जिसपे मरती वो तेरा ही जमाल है

एक तू है जो रोए तो दामन बिछा देते हैं लोग
एक हम हैं जो रोएं तो कोई देता नहीं रुमाल है

तू खुश रहे, चहके तो खुश हो जाता है जमाना
तू गमगीन हो तो हर तरफ मच जाता बवाल है

कोई बरबाद हुआ तो कोई मयखाने पहुंच गया
लेकिन तुझपे कभी उठता नहीं कोई सवाल है

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – इस शहर में तेरे होने के निशान खोजता हूं

love shyari next

तुम हो यहीं पे कहीं, तेरा नाम सोचता हूं
इस शहर में तेरे होने के निशान खोजता हूं

इन गलियों से गुजरते हुए मेरी जानेमन अक्सर
तेरे कदमों की आहट सुन वो मकान खोजता हूं

तेरे खयालों से खिंचकर यूं बेखबर सा चलता
अपने इश्क का वो दिलकश मकाम खोजता हूं

मेरी तलाश देखकर कहते हैं ये दुनिया वाले
अपनी मौत का मैं जीते जी सामान खोजता हूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया

love shayari hindi shayari

है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया
तेरे दर्द से इस दिल को तबाह कर लिया

गम बहुत हैं जिंदगी में इसलिए जानेमन
खामोशी से ही प्यार बेपनाह कर लिया

मेरी नजर में हर जगह तुम ही बसी हो
जर्रे-जर्रे को इस मंजर का गवाह कर लिया

गुलाब के कांटों से भी रिश्ता रहा अपना
गुलशन में रहके सबसे यूं निबाह कर लिया

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – मुझे देखते ही हर निगाह पत्थर सी क्यूँ हो गई

prevnext

अब जानेमन तू तो नहीं, शिकवा-ए-गम किससे कहें
या चुप रहें या रो पड़ें, किस्सा-ए-गम किससे कहें

मुझे देखते ही हर निगाह पत्थर सी क्यूं हो गई
जिसे देख दिल हुआ उदास,हैं आंखें नम,किससे कहें

इस शहर की वीरां गुलशनें, हैं फूल कम, कांटे कई
दामन मेरा छलनी हुआ, हम दर्दो-गम किससे कहें

कोई रहगुज़र तो देर तक टिकता नहीं कदमों तले
तेरा निशां है कहीं नहीं, मंज़िल न सनम, किससे कहें

©RajeevSingh #love shayari