Tag Archives: जिंदा शायरी

शायरी – मैं तो जिंदा हूं, तेरा ख्वाब जो सलामत है

new prev new shayari pic

तेरी यादों के जज्बात इस कदर छलके
मेरी आंखों के पैकर से अब जहर छलके

मैं तो जिंदा हूं, तेरा ख्वाब जो सलामत है
रात दिन तेरा ही चेहरा हर पहर झलके

अब किसी राह की ख्वाहिश नहीं दिल में
हमने जब देख लिया तेरी रहगुजर चलके

चांद के नूर की तलाश में भटकता हुआ
बुझ गया है वो गर्दिश का सितारा जलके

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – क्या इश्क मिटा पाएगी तेरी जुदाई

love shayari hindi shayari

लिबास में कबसे पहन ली बेवफाई
ऐ नाजनीं दिखा दी ये कैसी बेहयाई

दिल मेरा तोड़कर सुनो ऐ जानेवाले
क्या इश्क मिटा पाएगी तेरी जुदाई

मुझको तो अब कोई शिकवा नहीं है
नहीं सुनना है तेरी ये झूठी सफाई

दर्द हो चुकी है अब ये जिंदगी मेरी
जिंदा है सिर्फ मेरे रूह की तन्हाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – ये इश्क आंसुओं की कहानी ही तो है

love shayari hindi shayari

इन वादियों में बच गए हैं तेरे निशां
वही दिले-नादां है और बुत है बेजां

ये इश्क आंसुओं की कहानी ही तो है
बस दर्द ही करता है फसाने का बयां

मेरी यादों में जिंदा हो तुम ऐ सनम
हम लिखेंगे गजल में तेरी ही दास्तां

किस मोड़ पे खड़ी है ये जिंदगी मेरी
तन्हा सा लग रहा हूं और तू है कहां

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जा रहा हूं मैं जिंदा ही तेरी दुनिया से

love shayari hindi shayari

धूप में डूबके हसीन चांद निकल आया है
आग में जलके कोई आशिक निकल आया है

जो कफन ना दे मगर मौत की दुआएं दे
देख तेरे दर पे ये कौन दोस्त आया है

जा रहा हूं मैं जिंदा ही तेरी दुनिया से
तेरे गम से अब मेरा जी भर आया है

बेबसी साथ है लेकिन अभी मजबूर नहीं
अपनी तन्हाई में भी मुझको जीना आया है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ये जख़्म तेरे सितम की पहचान बन गए

love shyari next

रेतों पे हर कदम निशान बन गए
ये जख़्म तेरे सितम की पहचान बन गए

आँसू पिलाके रूह को जिंदा तो कर लिया
अब प्यास है इतनी कि बेजान बन गए

अब तक तो मुझे तेरा सुराग न मिला
तुझे खोजने में खुद से ही अंजान बन गए

लंबी उमर थी लेकिन तेरे ही इश्क में
दुनिया में दो घड़ी के मेहमान बन गए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द टूटा है बड़ी जोर से आहें भरके

love shayari hindi shayari

दर्द टूटा है बड़ी जोर से आहें भरके
आह निकली है बड़ी देर से सजदा करके

दीद तेरी ही हुई थी, हिज्र तुमसे ही मिले
इश्क तो रह गया है मौत का नगमा बनके

शमा, मेरे हाल पे मेरे तू नाराज न हो
तू देख खामोशी से एक परवाना जलते

मौत जब आ ही गई तो गिला क्या करें
जिंदा रहते तो तेरे गम को सदमा कहते

सजदा- इबादत, सिर झुकाना
दीद- दर्शन, to see
हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – मेरी राहों पे रहबर मुझे खींचता चला गया

love shyari next

मेरी राहों पे रहबर मुझे खींचता चला गया
मैं उसे देख न पाया और चलता चला गया

इन समाजों की जंजीरों में मन घुटता था
इसलिए भीड़ में मैं तन्हा होता चला गया

आपको देखकर भी पूछना तो भूल गया मैं
आपके बारे में ही दिल सोचता चला गया

मेरी दुनिया में बेखुदी थी मगर मैं न था
खबर थी कि जिंदा हूं पर मरता चला गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari