Tag Archives: जुल्फ शायरी

शायरी – जो फूल उसकी जुल्फों तक नहीं पहुंच सका

love shayari hindi shayari

मुहब्बत के मुकद्दर में वो हसीं शाम कभी होती
सोचता हूं ये जिंदगी तो उसके नाम कभी होती

जो फूल उसकी जुल्फों तक नहीं पहुंच सका
उसे तोड़ने को वो दिल से परेशान कभी होती

मुझे पत्थर समझकर जो हमेशा तराशती रही
उस खुदा से हमारी दुआ सलाम कभी होती

जिसको देखा किए हर शब उल्फत के आइने में
वह अक्स हमारे आशियां की मेहमान कभी होती

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

शायरी – कब तू मुझे समझेगी, बस यही सोचता हूं मैं

love shayari hindi shayari

एक नजर की जुस्तजू में तुझे देखता हूं मैं
कब तू मुझे समझेगी, बस यही सोचता हूं मैं

करीब से गुजरती हो तो मचल उठता है दिल
न जाने किस तरह रोज खुद को रोकता हूं मैं

तेरे हुस्न की चांदनी में मेरा इश्क हुआ रोशन
चांद के साये को दरिया में बहुत ताकता हूं मैं

इन मदभरी जुल्फों में खो जाऊंगा एक दिन
तेरे ख्वाबों की इन रातों में, यही चाहता हूं मैं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – तेरी जुल्फ में लगा सकूं, वो कली न मैं खिला सकूं

love shayari hindi shayari

तेरी जुल्फ में लगा सकूं, वो कली न मैं खिला सकूं
बेबस खिजां में बैठा हूं, वो बहार भी न मैं ला सकूं

सावन की एक फुहार से मैंने मांग ली कुछ बूंद भी
जिसे आंख में तो भर लिया, उसे अब न मैं गिरा सकूं

कहा भी क्या समझा नहीं, देखा भी क्या सोचा नहीं
यूं खो गया मैं खुद में ही कि कहीं भी न मैं जा सकूं

सर पे जब सदियां गिरी, मैं फलक में जाके धंस गया
अब चांद के मानिंद मैं जमीं पे भी न आ सकूं

फलक- आसमान

खिजां- पतझड़

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरी जुल्फों तले सोया रहूं आंखें बंदकर

love shayari hindi shayari

बस यही ख्वाब है कि जीवन तेरे संग गुजरे
जो पल आए, वो पल बस तेरे संग गुजरे

तेरी जुल्फों तले सोया रहूं आंखें बंदकर
तुम बांहों में रहो और रात ये संग गुजरे

चांद देखता रहे हमें एकटक बेखुद होकर
प्यार चांदनी में करें, ये दरिया संग गुजरे

बिखर जाए खुशबू, फिजा नाचे झूमकर
हर राह में यूं मुहब्बत हमारे संग गुजरे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिसे हम फूल की तरह इस दिल में खिला बैठे

love shayari hindi shayari

जुल्फ की ओट में कोई अमावस सा नजर आया
जब उसे देखा तो एक चांद बुझता सा नजर आया

कौन सुनसान सी राहों पे तन्हा चल रहा था कल
गौर से देखा तो मेरा ही साया सा नजर आया

जिसे हम फूल की तरह इस दिल में खिला बैठे
वही आखिर में सीने को चुभता सा नजर आया

तुम्हारा दर्द ही सहके हम उस मंजिल पे आ पहुंचे
जहां से आगे का रस्ता खोता सा नजर आया

बहुत उम्मीद है हमसे जमाने को मगर ऐ दिल
जमाने में जीना ही मुश्किल सा नजर आया

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – तू न आई तो अधूरी है जिंदगी की गजल

love shayari hindi shayari


चांद सी आंखों से गिरते हैं अश्क से तारे
है घनेरी जुल्फ तले नम रात के नजारे

दर्द आएगा दबे पांव सुबह की तरह
फिर तो सूरज में जलेंगे मेरे अरमां सारे

तुम्हें पाया तो नीरस हो गई ये दुनिया
और दुश्मन सी हो गई घर की दीवारें

तू न आई तो अधूरी है जिंदगी की गजल
जाने कब आएगी तू लेकर हुस्न की बहारें


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं

love shayari hindi shayari

ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं
खा कसम मेरी कि तू रातभर रोयी नहीं

बन गयी है जुल्फें तेरी उजड़ी-उजड़ी सी बहार
आंधियों में घिर के भी तू चमन से गई नहीं

ये तेरा उदास चेहरा, ये तेरी गमगीन आंखें
आने से पहले जरा तू आईने में झांकी नहीं

हूं मैं हैरां देखकर कि क्या ये तेरा हाल है
इश्क में मुझपे कभी ऐसी कयामत आती नहीं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – आधी रातों में वो दिल को छूकर चली गई

love shayari hindi shayari

कोई दरवाजे पे दस्तक देकर चली गई
आधी रातों में वो दिल को छूकर चली गई

मैं बरसता भी तो कैसे अबके सावन
वो अपनी जुल्फों में मुझे लेकर चली गई

वो कुदरत के नज़ारों से भी सुंदर है
अपनी तस्वीर मेरे दिल को देकर चली गई

दिल धड़कता है, धड़कने की सज़ा पाता है
मुझे दर्द भरी सांसे वो देकर चली गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिसे घेर लेंगे गम कई वो हँसेगा क्या, कहेगा क्या

prevnext

तेरा दर्द काली जुल्फ सा लहराएगा, बल खाएगा
मेरे सीने को अँधेरे में रेशम सा कुछ सहलाएगा

किस सादगी से आए हो ऐ चांद तूम मेरे सामने
अब आस्मा भी एक हसीन सा आईना कहलाएगा

जिसे घेर लेंगे गम कई वो हंसेगा क्या, कहेगा क्या
बस एक उदास सी शक्ल में वो लाश सा बन जाएगा

कहां खोजने जाएंगे हम वो आदमी जिसे इश्क हो
इस रेत की दुनिया में वो एक बूंद क्या मिल पाएगा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – यही इश्क का अंजाम था, ये जुबां भी नाकाम था

love shyari next

तुझे बोलने से गुरेज था, मुझे पूछने से परहेज था
यही इश्क का अंजाम था, ये जुबां भी नाकाम था

तेरा देखकर मुंह मोड़ना, मेरा देखकर राह छोड़ना
नजर में कुछ अरमान थे, बेरुखी में भी पैगाम था

कलियां खिली थी जुल्फ में, गजल मिली तेरे नक्श में
मेरी शायरी में ऐ सनम, खुशबू तेरी, तेरा नाम था

दिल भी नहीं, जां भी नहीं, खूं भी नहीं, अश्क भी नहीं
तुझे क्या दिया मेरी मौत ने, कुछ न बचा अरमान था

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मुझपे कयामत ढाती है तेरी गजल सी सूरत

prevnext

तू मेरे इश्क का बुरा अंजाम न कर
दिल रो दे मेरा ऐसा कोई काम न कर

बल खाने दे अपनी जुल्फों को हवाओं में
जूड़े बांधकर तू मौसम को परेशां न कर

मुझपे कयामत ढाती है तेरी गजल सी सूरत
मेरे दिल की मैयत का इंतजाम न कर

ख्वाब ये टूट न जाए इस जनम में मेरा
इस बस्ती में मेरा इश्क सरेआम न कर

©RajeevSingh

शायरी – तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है

new prev new shayari pic

तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है
लबो-ज़ुल्फ-आँखों पे इल्ज़ाम है
क्यूँ लायी थी तुम सूरत में अपने
मेरी बर्बादियों के जो सामान हैं

Teri Har Adaa Pe Ye Ilzam Hai
Labo-Julf-Aankhon Pe Ilzam Hai
Kyon Layi Thi Tum Surat Me Apne
Meri Barbadiyon Ke Jo Saman Hain

©rajeev singh shayari