Tag Archives: जुल्म शायरी

शायरी – खुद को संवारकर कहां तुम चले गए

love shayari hindi shayari

खुद को संवारकर कहां तुम चले गए
मेरी दुनिया उजाड़कर कहां तुम चले गए

गुलशन के सारे फूल तोड़ चुके फिर भी
तितलियों को मारकर कहां तुम चले गए

जमाने के जुल्मों का हमें गम नहीं मगर
धोखे से वार कर कहां तुम चले गए

बुरे वक्त में जो रोते तेरे साथ चले थे
वो सब बिसार कर कहां तुम चले गए

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

शायरी – जुल्म करती है जब मुझपे तन्हाई

love shyari next

बेवफा हो गया है दर्द मुझी से
दूर का रिश्ता हो गया खुशी से

एक बादल का टुकड़ा उड़ता था
हमने बरसते देखा उसे बेबसी से

कोई कश्ती जब किनारे लगती है
वो ठहरती है कितनी खामोशी से

जुल्म करती है जब मुझपे तन्हाई
कत्ल करता हूं अपनी बेखुदी से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल जैसा नशेमन था, टूटकर बिखर गया

love shyari next

तिनको का आशियां था, पल में उजड़ गया
दिल जैसा नशेमन था, टूटकर बिखर गया

ये फूल सुनाते हैं लोगों के जुल्म को
जो जिंदगी न दे सके, वह मौत दे गया

अब जाके कहां ढूंढे ऐ पेड़ तेरे छांव
तुझे काटकर यह बेरहम मकान बन गया

हम मांगकर पी लेते थे जिनके यहां शराब
वो मुझसे बिना पूछे मेरा खून पी गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari