Tag Archives: डर शायरी

शायरी – अगर रूलाता हो दिल तो किसे सुकून मिले

prevnext

तू याद आए अगर तो किसे सुकून मिले
अगर रूलाता हो दिल तो किसे सुकून मिले

मुझे यकीन है कि मैं कभी न बोलूँगा
जुबाँ पे बात हो अटकी तो किसे सुकून मिले

तुम ऐतराज करोगे यही डर है मुझको
ये डर एक रोग बन जाए तो किसे सुकून मिले

दिल शायर की तरह है, इश्क है दर्द जैसा
फिर जवानी जो सताए तो किसे सुकून मिले

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari