Tag Archives: दर्द दिल की शायरी

शायरी – कैसी है आशिक की फितरत, क्या कहूं

new prev new shayari pic

कैसी है आशिक की फितरत, क्या कहूं
इसे सुकूने दिल से है नफरत, क्या कहूं

दिल लगाया तो अक्ल क्यों कम हो गई
नादानों सी हो गई है हरकत, क्या कहूं

जिंदगी का क्या होगा, कह नहीं सकता
किधर चली गई मेरी किस्मत, क्या कहूं

जमाने से वो आखिरकार इतनी डर गई
दे न सकी मिलने की मोहलत, क्या कहूं

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – आज सब कुछ सूख गया है, रेतों में उम्मीद जगा के

love shyari next

बैठे-बैठे सोच रही हूं दीवारों से पीठ लगा के
खुद को मैं खोज रही हूं, सीने पे खंजर चला के

उम्मीदों का सावन कल तक, बरसा था दो आंखों से
आज सब कुछ सूख गया है, रेतों में उम्मीद जगा के

आने दो इन पंछियों को, आंगन में मैं अकेली हूं
मेरी तरह मुसाफिर हैं ये, जीते नहीं हैं शहर बसा के

अपनी दुनिया वो नहीं जिसमें दिल का नाम नहीं
कैसे जीएंगे हम भला फिर किसी से देह लगा के

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari