Tag Archives: दामन शायरी

शायरी – किसी के दर्द पे अक्सर लोगों को हंसते देखा है

new prev new shayari pic

किसी के दर्द पे अक्सर लोगों को हंसते देखा है
जब अपने पे आती है तो उसी को रोते देखा है

अपनों की मुसीबत में अपने भी भाग जाते हैं
अपनों को अपनों से ही दामन छुड़ाते देखा है

दौलत के सिवा दुनिया का रहनुमा कोई नहीं
फरिश्तों को भी राहों पर भीख मांगते देखा है

जिस बदकिस्मत को सब पत्थर मारा करते थे
किस्मत पलटी तो उसी पे फूल फेंकते देखा है

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – तेरी यादों में जलता रहा आज देर रात तक

new prev new shayari pic

तेरी यादों में जलता रहा आज देर रात तक
ये दिल खाक बनता रहा आज देर रात तक

तेरे ख्यालों की तेज आंधियों के थपेड़ों से
गश खाकर गिरता रहा आज देर रात तक

भीगा सा अहसास था लेकिन नहीं थी खबर
आखों से कुछ गिरता रहा आज देर रात तक

दामन में समेटता रहा अपने वजूद के टुकड़े
आईने सा मैं टूटता रहा आज देर रात तक

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – अजनबी तू क्यों दिल के करीब लगता है

love shyari next

जबसे देखा है तुमको, तू ही हबीब लगता है
अजनबी तू क्यों दिल के करीब लगता है

तेरे उदास चेहरे पे ये लबों की मुस्कुराहट
देखती हूं तो ये अहसास अजीब लगता है

मेरे पास आकर तुम दामन जो थाम लो
अब जिंदगी में यही अच्छा नसीब लगता है

तूने मेरी दुआ न सुनी तो मर जाऊंगी
तेरे बिन जीवन अब तो सलीब लगता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मैं अकेली जुदा हूं तुमसे

new prev new shayari pic

चांद ने चुपके से कहा है
छत पे तू तन्हा खड़ा है

तुमको पाया तबसे जाना
अपना घर भी बहुत बुरा है

मैं अकेली जुदा हूं तुमसे
मेरा दिल भी टूटा पड़ा है

ये खला अब जान लेगी
दर्द से मेरा दामन भरा है

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – मुसकाएं आखिर कैसे, दिल तो टुकड़ा-टुकड़ा है

love shayari hindi shayari


दिल पे जख्म का पहरा है
दर्द बड़ा ही गहरा है

खामोशी या उदासी में
जीवन का ही दुखड़ा है

मुसकाएं आखिर हम कैसे
दिल तो टुकड़ा-टुकड़ा है

देख लो मेरे दामन में
दाग ही हरसू बिखरा है

हरसू- हर ओर


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – राह पे जब तू साथ न आया

love shayari hindi shayari


तेरा दामन मेरे हाथ न आया
तुझपे भी कोई दाग न आया

पीछे मुड़के अब क्या देखूं
राह पे जब तू साथ न आया

रख ली हथेली पे माथे को
दर्द को जब दिल झेल न पाया

मेरी आंखें तुमसे जुदा हैं
रात हुई पर चांद न आया


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी- याद रहा चेहरा दिलबर का

love shyari next

उनकी गली को जबसे जाना
बिसर गया मैं रस्ता घर का

अपनी सूरत भूल गया मैं
याद रहा चेहरा दिलबर का

हाल मिला नहीं अब तक हमको
उनके दिल के अंदर का

आंखों के आंचल का आंसू
भिगो गया दामन चादर का

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी- रोशनी हुस्न की पायी जबसे

prevnext

किसी दामन का क्या भरोसा है
हमको दुनिया का तजरबा है

रोशनी हुस्न की पायी जबसे
दिल की तस्वीर में अंधेरा है

उतर आया हूं गहरे सागर में
अब तो आंसू का ही सहारा है

क्यूं परायों से हम खुशी मांगें
जब मेरा गम ही मुस्कुराता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

 

शायरी – जो भी होठों से न कह पाए

love shyari next

जो भी होठों से न कह पाए
दास्तां आंखों में रह जाए

वो चली जाती है दूर सही
यादें दामन में मेरे रह जाए

दिल में पानी लिए चलते हैं
कोई प्यासा कहीं मिल जाए

जो भी पहचाने मिले राहों में
हर कोई हमपे अब हंस जाए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कैसे हो गई तेरी वफा कम

love shyari next

चांद ने मुझसे मुहब्बत की तो
सब तारे हो गए मेरे दुश्मन

मुझको कोई भी क्या देगा
देख चुके हैं सबका दामन

तुम अपनी नजरों से बताना
फूल पे आंसू हैं या शबनम

दिल में तेरे दर्द है फिर भी
कैसे हो गई तेरी वफा कम

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो पल गुजारे हमने तेरी याद में

love shyari next

बेदर्द ये रातें और हिज्र के मौसम
खुद पर खामोशी से मनाते हैं मातम

दिल में उठा अभी आंसू के तूफां
नजरों के रहगुजर में आया है सावन

बस्ती में कहीं पर निशां नहीं तेरा
हम ढूंढ़ रहे हैं कबसे तेरा आंगन

जो पल गुजारे हमने तेरी याद में
हर पल मिला है तेरे दर्द का दामन

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – मुहब्बत की दुआ तुम तक पहुंच जाती तो अच्छा था

love shayari hindi shayari

मोहब्बत की दुआ तुम तक पहुंच जाती तो अच्छा था
तू कभी चल कर हमारे पास आ जाती तो अच्छा था

सारी दुनिया का दर्द तेरी दो आंखों में सिमट आया था
समंदर की लहरें मेरे दामन भिगो जाती तो अच्छा था

कभी करीब से चांद को छूना अब तक तो नसीब न हुआ
मेरे आईने को एक बार चेहरा दिखा जाती तो अच्छा था

तुझे भूल सकता हूं मगर ये करने को मेरा जी नहीं करता
इस आशिक को तू अपने जैसा बना जाती तो अच्छा था

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – तुम जबसे दामन हमसे बचाने लगे

love shayari hindi shayari

तुम दामन जब हमसे बचाने लगे
दुनियावालों के लब मुस्कुराने लगे

खाक में मिले तो रोया इस कदर
आंसुओं को गिरने में जमाने लगे

जेब में खुदा के सिवा कुछ न रहा
फकीरों से हम नजर आने लगे

उस जगह मैं अब टिक पाता नहीं
जो तेरी याद को सुलगाने लगे

©RajeevSingh # love shayari