Tag Archives: दुश्मनी शायरी

शायरी – इतने खतरे उठा दोनों करते हैं प्यार

love shyari next

जबसे तुम हमसे आकर मिलने लगी
दुश्मनी हर किसी से अब होने लगी

दोनों को देखकर लोग हैं जल रहे
बस्ती में हर तरफ आग लगने लगी

इतने खतरे उठा दोनों करते हैं प्यार
मौत से भी मुहब्बत सी होने लगी

दुनिया होती है क्यूं इश्क से यूं खफा
मैंने जब ये कहा तो तू हंसने लगी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – तेरे लब की दिलकश परेशानी भी देखी

prevnext

पिंजरे में बुलबुल की जिंदगानी भी देखी
कांटों में एक गुल की जवानी भी देखी

हर पल दर्द का एक नया मोड़ लेती
मुहब्बत की कमसिन कहानी भी देखी

सौतन की दुश्मनी को भी मात देती
दुनिया की बेरहम कारस्तानी भी देखी

मेरे इश्क को ठुकराने से ठीक पहले
तेरे लब की दिलकश परेशानी भी देखी

कितनी चोटें तूने छोड़ी मेरे दिल पे
तेरे जख्मों की हर एक निशानी भी देखी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – क्या-क्या हो रहा सीने में ऐ दिल देखो

love shayari hindi shayari

दर्द पीना है मुझे, यूं ही जीना है मुझे
हरेक पल को आंसू सा गिराना है मुझे

क्या-क्या हो रहा सीने में ऐ दिल देखो
तुझे तेरा ही तमाशा दिखाना है मुझे

ना दोस्ती हो, ना कोई दुश्मनी हो कभी
इस जमाने से ये रिश्ता निभाना है मुझे

मैं भी मजबूर हूं कितना इस आदत से
रातभर चांद संग खुद को जगाना है मुझे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – खून के रिश्तों में ही होती है अक्सर दुश्मनी

new prev new next

बन रहे हैं रोज शहर में ईंट-पत्थर के मकां
जिसमें दबते हैं कई जुल्मो सितम के निशां

खून के रिश्तों में ही होती है अक्सर दुश्मनी
हक-हिस्सों के झगड़े में खून करते हैं इसां

सबके दिल में एक जज्बा, हाय दौलत हाय पैसा
क्या मर्द और क्या औरत, एक से हैं सब यहां

धूमधाम से करके शादी करते हैं बच्चे पैदा
औलादों-मां-बाप के झगड़ों में रोता है ये जहां

©RajeevSingh