Tag Archives: नगमा शायरी

शायरी – गम कहीं से भी आके दस्तक दे

love shayari hindi shayari

चांदनी रात में सावन की फुहारें हैं
भीगती रोशनी में झूमती बहारें हैं

एक नगमा है और एक तरन्नुम है
रोती दरियाओं के ये दो किनारे हैं

आस्मा में हो या वो दिल में हो
कई ख्वाबों के जलते हुए नजारे हैं

गम कहीं से भी आके दस्तक दे
हर तरफ से खुल गई किवाड़ें हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – कोई खामोश मुहब्बत से पुकारे दिल को

prevnext

कोई खामोश मुहब्बत से पुकारे दिल को
अपनी सूरत को ख्वाब में दिखाए दिल को

वो उदासी का नगमा है, गज़ल के जैसी
इश्क के साज़ पे ये दर्द सुनाए दिल को

उसकी यादों से ख़यालें भी जवाँ होते हैं
इस जवानी का अहसास दिलाए दिल को

कब मिलेगी वो दुनिया में, किन गलियों में
कोई एक राह कभी वो बताए दिल को

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मैं भटकती हूँ जिस्म का आईना लेकर

prevnext

चल पड़ी राह में एक दर्द का नगमा लेकर
जल रही धूप में बारिश का सपना लेकर

तुम आए नहीं लेकर मेरी वो खुशियाँ
क्या करूँगी अब कोई तमन्ना लेकर

एक तन्हा सा बदन है टूटे जीवन में
जी रही हूँ लुटे दिल की दास्ताँ लेकर

तेरा चेहरा नहीं है आज मेरे शीशे में
मैं भटकती हूँ जिस्म का आईना लेकर

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – दर्द टूटा है बड़ी जोर से आहें भरके

love shayari hindi shayari

दर्द टूटा है बड़ी जोर से आहें भरके
आह निकली है बड़ी देर से सजदा करके

दीद तेरी ही हुई थी, हिज्र तुमसे ही मिले
इश्क तो रह गया है मौत का नगमा बनके

शमा, मेरे हाल पे मेरे तू नाराज न हो
तू देख खामोशी से एक परवाना जलते

मौत जब आ ही गई तो गिला क्या करें
जिंदा रहते तो तेरे गम को सदमा कहते

सजदा- इबादत, सिर झुकाना
दीद- दर्शन, to see
हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh #love shayari