Tag Archives: निगाहें शायरी

शायरी – हर कांटा चुन लेता तेरी जिंदगी की राहों का

prevnext

हर कांटा चुन लेता तेरी जिंदगी की राहों का
जो इनायत होती हमपे फूल सी निगाहों का

वफा का जवाब जमाने में किससे मांगे हम
तुम अगर सुन न सके सवाल मेरी आहों का

दर्द के जज़्बे दिल में दफन हो गए हैं इस कदर
कि इस कब्र में अब एक लाश है मेरे गुनाहों का

मेरा साया रोशनी में खोजता है मुझे, और मैं
अंधेरों में निशां तलाशता हूं तेरी पनाहों का

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – एक गुमसुम सी फूल के खातिर मैं कांटों पे सोया

love shayari hindi shayari

प्यासी निगाहें बरस गई, बरसी निगाहें तरस गई
सावन की आई बारिश में कितनी नदियां टूट गई

मेरे सागर में एक कश्ती तूफानों से डरती थी
सैलाबों से लड़ते-लड़ते वो भी एक दिन डूब गई

एक गुमसुम सी फूल के खातिर मैं कांटों पे सोया
लेकिन वो खुद से रूठी थी, हमसे भी रूठ गई

बाली उमर में बुझता चिरागां शम्मे को दर-दर ढूंढे
वो बुझा उसकी गली में, जब वो शम्मा बुझ गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मुझको तो मेरी हया रोकती है

love shayari hindi shayari

मैं भी यहीं हूं, तू भी यहां है
क्या खबर कि मुश्किल कहां है

तेरी निगाहें कुछ कह सी रही हैं
ये तो फकत मेरे दिल ने सुना है

मुझको तो मेरी हया रोकती है
वरना मैं पूछूं, तू रहता कहां है

कब से खड़ी हूं, कुछ तो कहो ना
तेरे लिए यह अच्छा शमा है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – प्यासा है तू बरसों बरस से

love shayari hindi shayari

उसी मोड़ पे क्यूं आया मुसाफिर
जहां पर मैं पहले से ही खड़ी थी
पल भर में तुमसे इश्क हुआ था
पल भर ही तो निगाहें लड़ी थी

तुझे देखकर मुझे ऐसा लगा था
कि प्यासा है तू बरसों बरस से
आंखों में शबनम, जुबां पे खामोशी
सूरत में तेरे उदासी जड़ी थी

तूने भी मुझको नजर भर के देखा
मैंने भी तुमको जरा डर के देखा
कुछ तेरी आंखों में हमने पढ़ी थी
कुछ मेरी आंखों ने तुमसे कही थी

अगर मेरा तुमसे है कोई मरासिम
तो आओ चलें हम हसीं सफर पे
नहीं थी खबर ऐ नादां मुसाफिर
हमारे भी किस्मत में ऐसी घड़ी थी

मरासिम – संबंध

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – पल दो पल ये साथ हमारा, एक मुसाफिर एक हसीना

love shayari hindi shayari

पागल-पागल सब कहते हैं, दीवाने तुम कहते हो
मुझपे सबने पत्थर फेंका, फूलें तुम बरसाते हो

पल दो पल ये साथ हमारा, एक मुसाफिर एक हसीना
आवारों की गर्दिश में तुम हुस्न की शमा जलाते हो

ये दुनिया मेरी कातिल है, तूने जान बचायी मेरी
मुज़रिम तेरे पीछे पड़े हैं, उनसे तुम टकराते हो

तुमने सागर को देखा है, हमने बस तुमको देखा
ठहरे अश्क में डूबी निगाहें, गहरे दर्द में जीते हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari