Tag Archives: पतवार

शायरी – मुहब्बत के समंदर में दिलदार बहुत हैं

love shayari hindi shayari

मुहब्बत के समंदर में दिलदार बहुत हैं
यहां कश्तियां हैं कम, पतवार बहुत हैं

इस दुनिया में बेवफाओं का एक है उसूल
वो अक्सर कहते हैं कि मेरे यार बहुत हैं

तेरे नाम की माला जपने जो कोई बैठा
उसे काटने को समाज में तलवार बहुत हैं

देख ओ जमाना चला तेरे दर से दीवाना
उसके लिए सहराओं के घरबार बहुत हैं

सहरा- वीरान जगह

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements