Tag Archives: परछाई शायरी

शायरी – समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है

love shayari hindi shayari

समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है
तेरी आंखें उस खूबसूरत सी लगती है

तेरे दामन सा फैला है उसका आंचल
उसकी जुल्फें तेरी लहरों सी लगती है

उसकी बाहों में खुशियों के मोती है
वह भी गहरी सी, गुमसुम सी लगती है

मासूम जज़्बातों के लहू से बनी है वो
उसकी परछाई तेरे पानी सी लगती है

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

शायरी – संग रहता है मेरे पास अजनबी सा कोई

prevnext

जिंदगी एक तरफ है मेरी तन्हाई में
और तू एक तरफ है दर्द की अंगड़ाई में

तोड़ न दे कहीं धड़कन को सीने की तड़प
थाम लेते हैं कलेजे को हम जुदाई में

संग रहता है मेरे पास अजनबी सा कोई
ढूँढता हूँ तुझे मैं अपनी ही परछाई में

आईना डालता है मुझपे जब अपनी नजर
चंद आँसू ही दिखे आँखों की गहराई में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरी यादों के नूर में जला जाता हूं

new prev new next

तेरी यादों के नूर में जले चले जाता हूं
तेरी परछाई संग अपने लिए जाता हूं

हमें भी इश्क हुआ तेरी नजर में खोकर
आज भी मैं बेखबर सा जीए जाता हूं

अभी तो रात है बाकी, अभी है रोना
वरना दिनभर आंसुओं को पीए जाता हूं

तेरी एक तस्वीर जो हमेशा पास रहती है
बार बार उसे चूमने का जुर्म कीए जाता हूं

©RajeevSingh

शायरी – कितनी बार गुजर गई तुम मेरे करीब से

prevnext

हम हैं कहीं दूर बैठे तेरी याद में तन्हा
मगर दर्द के सिवा मेरे दिल को क्या हासिल

कितनी बार गुजर गई तुम मेरे करीब से
तेरी परछाई के सिवा आईने को क्या हासिल

ये दिल इतना बेबस है, कुछ कह नहीं सकता
आलमे-खामोशी में आंसुओं को क्या हासिल

दूर हो इतनी फिर भी तेरे आने का शुक्रिया
याद बनके सही, मुझे इतना तो है हासिल

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari