Tag Archives: परिंदे शायरी

शायरी – इश्क की आग में जमीं आसमां जल गया

new prev new shayari pic

मेरी जिंदगी जल गई, मेरा मकां जल गया
इश्क की आग से जमीं आसमां जल गया

तनहा दिल की चिंगारी को सुलगाता रहा
इसी कोशिश में मेरा पूरा कारवां जल गया

बगीचे को अचानक लपटों ने घेर लिया था
एक परिंदे को बचाते हुए बागबां जल गया

दहकते रहे उम्रभर होठों पे खामोश लफ्ज
उसे सहते हुए एक दिन वो बेजुबां जल गया

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – जिंदगी का बिखर जाना अब आम बात है

love shayari hindi shayari

जिंदगी का बिखर जाना अब आम बात है
किसी मोड़ पर मर जाना अब आम बात है

खुशियों की खोज में लोग निकलते हैं शहर में
वहां से मातम लेकर आना अब आम बात है

तेरी दुनिया में ऐ खुदा अब छोटी सी बात पर
खत लिखके जहर खाना अब आम बात है

प्यार के परिंदे जो कहीं उड़ते हुए दिख जाएं
उनका कत्ल कर जाना अब आम बात है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – तुम आए तो एक समंदर भी ठहरा

prevnext

तुझे देखकर सारी थकान भूलते हैं
मन के सभी परिंदे उड़ान भूलते हैं

तुम आए तो एक समंदर भी ठहरा
लहरों की जवानी तूफान भूलते हैं

मुहब्बत की इस हसीं दिलकशी में
दीवाने तो आखिरी अंजाम भूलते हैं

ज़हन में इस तरह बसा अक्स तेरा
आईना देख अब अपना नाम भूलते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे दिल में भी आंसुओं के परिंदे होंगे

love shayari hindi shayari

दर्दे दिल के इन रातों का सबेरा न हो
तेरी बेवफाई के उजालों में अंधेरा न हो

एक बार इश्क किया जिंदगी में हमने
कोशिश किया ये गलती दोबारा न हो

तेरे दिल में भी आंसुओं के परिंदे होंगे
किसी सैयाद का वहां पे बसेरा न हो

एक मुसाफिर बार-बार दुआ करता है
किसी शहर में कोई उसका सहारा न हो

सैयाद- परिंदों का शिकारी

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – अपने भी, पराए भी, कुछ दूर के साथी हैं

love shayari hindi shayari

दुनिया ने दीवानों को सदियों से है ठुकराया
आजाद परिंदों को कोई न समझ पाया

चलते हुए राहों पे देखूं मैं, सुनूं भी तो क्या
जब शहर के लोगों में ये दिल ही ना मिल पाया

हम तुमसे जुड़े थे तो रोने में अदा भी थी
अब टूट गए हैं तो आंसू ना निकल पाया

अपने भी, पराए भी, कुछ दूर के साथी हैं
हमने तो यहां सबको महरूमे-वफा पाया

महरूमे-वफा- जिसमें वफा न हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तू ही तस्वीर थी और दिल मेरा आईना था

love shayari hindi shayari

मैं परिंदों की तरह आस्मा में उड़ता था
आठों पहर तेरे खयालों में डूबा रहता था

मुझपे इतनी तो सनम इनायत की तुमने
मुस्कुराती थी जब तुमको सनम कहता था

तू जो खोयी तो ये सारा जहां वीरान हुआ
अब वो जोगी हुआ जो कल तेरा दीवाना था

मैं तो टुकड़ों को जोड़ता हूँ कि तुझे देखूं
तू ही तस्वीर थी और दिल टूटा आईना था

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ

prevnext

खैर अच्छा ही हुआ कि ये मुमकिन न हुआ
मेरे इस रूह का कोई भी पैरहन न हुआ

पल गुजारे थे जो तन्हाई में रोते-रोते
इस तरीके से भी मेरा गम कुछ कम न हुआ

उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह
तीर जब लग गई तो कोई भी मरहम न हुआ

देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा
ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ

पैरहन- कपड़े

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari