Tag Archives: परेशां शायरी

गम के तूफानों में डूबा, इश्क का है साहिल कहां

shayari latest shayari new

दिलरुबा शायरी इमेज

गम के तूफानों में डूबा, इश्क का है साहिल कहां
वो तो है सागर सा गहरा, मैं उसके काबिल कहां

खेलता रहता हूं अक्सर ख्वाहिश के खिलौनों से
टूटता है जब खिलौना, जोड़ना फिर हासिल कहां

अपना दर्द किससे कहे वो, बहुत परेशां रहता है
शहर की भीड़ में सुननेवाला वैसा कोई दिल कहां

दुनिया में थोड़ा मर जाऊं, थोड़ी सांसे चलती रहे
मौत भी दे जो आधी अधूरी, है ऐसा कातिल कहां

@rajeevsingh                         शायरी

shayari green pre shayari green next

Save

Advertisements

शायरी – अपने रोते हुए दिल को समझा न सका

love shayari hindi shayari

हम तेरे दर्द में जीकर भी परेशां न हुए
घुट-घुट के मरके भी हम बेजां न हुए

देख तेरे आने, तेरे जाने की कशिश
हमें पलकें मूंदने कभी आसां न हुए

आ पिला दे हमें अपने हाथों से जहर
ये ही कर दे जब तुम मेहरबां न हुए

अपने रोते हुए दिल को समझा न सका
माफ करना हम तेरी तरह इंसां न हुए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – फिर कहां खो गए छोड़के मुझको एक दिन

love shyari next

तुमको जाना ही पड़ा छोड़के मुझको एक दिन
दिल दुखाना ही पड़ा छोड़के मुझको एक दिन

तू परेशां है मेरे लिए दिल से अब भी
यूं भटकता ही गया छोड़के मुझको एक दिन

अब तो मुझमें भी एक शाम ढल आई है
जिसमें तू डूब गया छोड़के मुझको एक दिन

सुनके शहनाई मेरे दर से तुम लौट गए
फिर कहां खो गए छोड़के मुझको एक दिन

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari