Tag Archives: पलक शायरी

शायरी – तुमको अगर मैं अपने दिल में बसा लूं

prevnext

जो खुदा हर पल मेरे अहसासों में है
मेरी जां तू उसकी एक झलक तो नहीं

तुमको अगर मैं अपने दिल में बसा लूं
ये काम जमाने में कोई गलत तो नहीं

यूं सोचता रहूं और तुमसे कह न सकूं मैं
तो फिर रहोगी तुम हमसे अलग तो नहीं

रातभर तेरी तस्वीर को देखता रहा लेकिन
झपकी एक बार भी मेरी पलक तो नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – अपने रोते हुए दिल को समझा न सका

love shayari hindi shayari

हम तेरे दर्द में जीकर भी परेशां न हुए
घुट-घुट के मरके भी हम बेजां न हुए

देख तेरे आने, तेरे जाने की कशिश
हमें पलकें मूंदने कभी आसां न हुए

आ पिला दे हमें अपने हाथों से जहर
ये ही कर दे जब तुम मेहरबां न हुए

अपने रोते हुए दिल को समझा न सका
माफ करना हम तेरी तरह इंसां न हुए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरी खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं

love shayari hindi shayari

हमें तुम छोड़ गए हो, ये सोचा भी नहीं
जिसे तुम तोड़ गए हो, वो टूटा कि नहीं

तुम दामन में समेटती हो गैरों की वफा
मेरी खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं

तेरी पलकों में बसे थे दर्द के शबनम
उन निगाहों में अब कोई हया भी नहीं

तेरा अक्स जवां है किसी और के आईने में
मेरी किस्मत में अब तेरा साया भी नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द लिखता है तेरे हुस्न के कयामत को

new prev new next

दर्द लिखता है तेरे हुस्न की कयामत को
दिल तड़पता है तेरे दर्द में मर जाने को

हर अमावस पे जब चांद नहीं दिखता है
मैं तरसता हूं निगाहों का नूर पाने को

तेरी सूरत ने संवारे थे आईने मेरे
तेरी खामोशी ने तोड़ा है दीवाने को

शाम तेरी बुझी निगाहों सी आती है
हम आए हैं तेरी पलकों में डूब जाने को

©RajeevSingh

शायरी – आह और दर्द बस तेरा तलबगार हुआ

love shayari hindi shayari


आह और दर्द बस तेरा तलबगार हुआ
आंख पत्थर हुई, अश्क आबशार हुआ

अमावस में बस जुदाई के सितारे हैं
चांद के बिन फलक भी दागदार हुआ

मेरी पलकों का झपकना बड़ा मुश्किल है
ऐसा तबसे है जबसे तेरा दीदार हुआ

सो रहे हैं इन मकानों के बाशिन्दे सभी
मैं जगा रहके बस्ती का गुनहगार हुआ

आबशार – झरना
फलक – आकाश


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – नादान सी अदाओं की नुमाइश ना करो

love shayari hindi shayari


मुझको एक नजर देख पलकें गिरा लिया
शमा जलाकर तूने एक पल में बुझा दिया

नादान सी अदाओं की नुमाइश ना करो
तेरे इन तमाशों ने दर्द को जगा दिया

सूनी पड़ी राहों में तुम क्या खोज रहे थे
जो हमको आते देखकर खुद को छुपा लिया

हम आज हैं तेरे दर पे, कल ना रहें शायद
क्यूं ऐसे मुसाफिर से ये दिल लगा लिया


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जरा मुड़के देखो मुझे तुम दीवाने

love shayari hindi shayari

अपने में गुम हो चले जा रहे हो
हमें छोड़के तुम कहां जा रहे हो

जरा मुड़के देखो मुझे तुम दीवाने
हवा की तरह क्यों बहे जा रहे हो

दिलकश बड़ी है ये जन्नत सी वादी
इसे तुम पशेमां किए जा रहे हो

कभी भूल से ही नजर तो मिलाओ
क्यूं पलकों पे बोझ लिए जा रहे हो

(पशेमां- लज्जित)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – पलकों में रखे अश्क न गिर पाते आंख से

love shayari hindi shayari

छूते रहे वो दिल मेरा गजल की आग से
जलते रहे हम रातभर शायर की बात से

कहने लगे कि उनकी नज़र यूं उदास है
पलकों में रखे अश्क न गिर पाते आंख से

जाने की जिद पकड़ लिए वो आधी रात को
फिर रुक गए अचानक वो अपने आप से

यूं रोज ही जवां रहे महफिल इसी तरह
और आप गजल गाएं लबों के साज से

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – जबसे तुमसे इश्क हुआ है, कैसे निबाहूं रिश्तों को

love shyari next

आज हमने बुझा दिए हैं उन सभी चिरागों को
जिसमें हमने देखा था इस दुनिया की राहों को

अगर कहीं तुम मिल जाओगे, कर देंगे तुमको अर्पण
तेरे खातिर ही रखते हैं पलकों में कुछ अश्कों को

मेरी तन्हाई में कितनी रंजिश है तू क्या जाने
जबसे तुमसे इश्क हुआ है, कैसे निबाहूं रिश्तों को

तेरे रिवाजों में लिखा है आगे बढ़के न कहना
दीवाने भी कह न सकेंगे अपने दिल के सजदों को

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द बेजुबां हो तो दिल क्या कहे

love shayari hindi shayari

दर्द बेजुबां हो तो ये दिल क्या कहे
आह खामोश हो तो ये लब क्या कहे

आरजू का हर एक अश्क आंखों में था
उसने देखा नहीं तो पलक क्या कहे

चाहतें मंद हैं बुझती लौ की तरह
रोशनी ही नहीं तो दीपक क्या कहे

कोई नहीं यहां अपना मेहरबां सा कोई
तन्हाई में अब मुझसे शब क्या कहे

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – मैं भी एक बेजुबां बुत हूं, तू भी एक खामोश खत है

nextprev

मैं भी एक बेजुबां बुत हूं, तू भी एक खामोश खत है
इश्क ही मेरा नशा है, दर्द ही तेरे दिल की लत है

जितने दिन भी सांस रहेंगे, उतनी रातें जुगनू बनेंगे
पलकों पे ये चांद सितारे रखने का हमको तो हक है

देनेवाले जां भी देंगे, लेनेवाले जां भी लेंगे
दिल का सौदा है इकतरफा, आशिकों की ये किस्मत है

चल पड़े हैं दिल में जबसे, सबकुछ छूट गया है पीछे
मुझमें एक फकीर जगा है, ये दुनिया तो अब दोजख है

©RajeevSingh

शायरी – मुझसे मेरे ही खयालों में बात करती हो

love shyari next

हम भी लेते हैं इन चांद-सितारों से सबक
रोशनी हो तो वो दिखती है बड़ी दूर तलक

तेरे जादू से कयामत भी ठहर जाती है
आज भी दिल में रूकी है तेरे गम की कसक

मुझसे मेरे ही खयालों में बात करती हो
बंद रखता हूं तेरे खातिर अपने दोनों पलक

दिल के सागर में तो बस खारे आंसू हैं
मेरी आंखों ने भी देखे हैं तूफां की झलक

©RajeevSingh # प्यार शायरी