Tag Archives: प्यासा शायरी

शायरी – प्यासे तुम भी, प्यासे हम भी

#100 दर्द शायरी

प्यासे तुम भी, प्यासे हम भी

दोनों को तलाशे गम भी

 

फर्क नहीं पड़ता अब कोई

दर्द हो ज्यादा या कम भी

 

मिलते रहे हैं बस दोराहे

एक जख्म और एक मरहम भी

  1. ये इश्क आंसुओं की कहानी ही तो है
  2. मेरे खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं
  3. एक गुमसुम सी फूल के खातिर मैं कांटों पे सोया

शायरी – जो भी होठों से न कह पाए

love shyari next

जो भी होठों से न कह पाए
दास्तां आंखों में रह जाए

वो चली जाती है दूर सही
यादें दामन में मेरे रह जाए

दिल में पानी लिए चलते हैं
कोई प्यासा कहीं मिल जाए

जो भी पहचाने मिले राहों में
हर कोई हमपे अब हंस जाए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इतने नादान हो फिर भी दिल लगाते हो

love shayari hindi shayari

इतने नादान हो फिर भी दिल लगाते हो
इतने नाजुक हो, क्यूं पत्थर से टकराते हो

रु-ब-रु आती है वो तो छुप जाते हो
इतने प्यासे हो कि पानी से घबराते हो

आरजू पा ही गए तुम हुस्ने जानां की
तुम भी रातों में तन्हा सा गजल गाते हो

शोला भड़का है दिल के सनमखाने में
चिरागों की तरह खामोश नजर आते हो

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – जल रही है तेरी चाहत जिस सीने में

love shayari hindi shayari

कोई गुमनाम भटकता है सहरा में
कोई प्यासा तरसता है सहरा में

जल रही हैं तेरी चाहत जिस सीने में
वही आशिक सुलगता है सहरा में

इस जमाने में उसको लैला न मिली
उसे तलाशने निकला है सहरा में

मौत भी आएगी तो बड़ा खुश होगा
इतना दीवाना बना है वो सहरा में

सहरा- वीराना

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – ताउम्र तेरे इश्क में मरने की दुआ दे

love shyari next

आके तू मेरी मौत पे एक फूल चढ़ा दे
ताउम्र तेरे इश्क में मरने की दुआ दे

उंगली को न तू रोक अब, छूने दे मेरे नब्ज़
तू अपनी धड़कनें तो मेरे रग को सुना दे

ले चल मेरी मैयत को तन्हाई में कहीं
और हुस्न की इस आग से ये लाश जला दे

मेरी खाक को आँचल में ही बाँध लेना तुम
इस पोटली को तू किसी दरिया में बहा दे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं

love shyari next

कौन से लफ्ज़ में मैं दर्द की सदा लिखूं
किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं

इन अंधेरों की खामोशी में है रूह मेरी
और उजालों में दिखे जिस्म को जनाजा लिखूं

साज के रोते हुए सुर मुझे कुछ कहते हैं
इन सुरों को मैं किसी नज्म का आईना लिखूं

सात रंगों को लिखता हूं मैं इंद्रधनुष
सैकड़ों जख्म की रंगत को आशना लिखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज इतना ही दर्द है कि मैं रो न सकूं

love shayari hindi shayari

आज इतना ही धुआं है कि मैं जल न सकूं
आज इतना ही दर्द है कि मैं रो न सकूं

अबके बरसात में इक बूंद भी हासिल न हुआ
इतना प्यासा हूं कि पानी को भी छू न सकूं

तेरे रिश्तों ने बुलाया है तुझे घर की तरफ
अब तो शायद तेरे दर पे कभी आ न सकूं

फिर तू ही ले आना कभी फूलों की चादर
तेरी यादों के दरीचे पे मैं अब सो न सकूं

©RajeevSingh #love shayari