Tag Archives: प्यास शायरी

shayari – मेरे अंदर तेरे आने की ये आस बुझ जाए

shayari latest shayari new

अपने होने का अहसास शायरी

मेरे अंदर तेरे आने की ये आस बुझ जाए
सोचता हूं मोहब्बत की ये प्यास बुझ जाए

उतार देती है दुनियादारी इश्क का नशा
रोजी रोटी की कभी तो तलाश बुझ जाए

रोशनी आती नहीं जिंदगी में कुदरत की
शहर में चांद सूरज बदहवास बुझ जाए

दूर निकल आया हूं अब खुद से कितना
कि अपने होने का भी अहसास बुझ जाए

shayari green pre shayari green next

Advertisements

shayari -तुझसे दूर होकर दिल बड़ा उदास है

shayari latest shayari new

तेरी प्यास शायरी इमेज

तुझसे दूर होकर दिल बड़ा उदास है
ना तो तुम हो और ना ही सुकूं पास है

क्या थी खबर कि हम जुदा हो जाएंगे
अब अकेली हूं और जिंदगी हताश है

तुम्हें अपना मान कर चले थे तेरे साथ
तुम भुला चुके और मुझे तेरी तलाश है

अपने तरसे दिल को कैसे समझाएं हम
तेरे बिन जी नहीं लगता, ऐसी प्यास है

©rajeevsingh                                     shayari

shayari green pre shayari green next

शायरी – आग से सीने को भरिए, पानी को आंखो में रखिए

love shayari hindi shayari

आग से सीने को भरिए
पानी को आंखो में रखिए

आएगी एक दिन कयामत
दिल में थोड़ा धीरज रखिए

आपसे हैं मेरे मरासिम
आप रखिए या न रखिए

जाने कब प्यास जग जाए
पैमाने में दर्द को रखिए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – होठों से तू हंसती है, आंखो से तू रोती है

love shyari next

सूरत पे हर इक पल में दो प्यास उभरती है
होठों से तू हंसती है, आंखों से तू रोती है

शम्मे न जला तू अभी, रहने दे अंधेरे को
तू रात के पहलू में एक चांद सी लगती है

हाथों के इशारे से मुझे रोक ना रोने से
आंसू नहीं रूकते हैं जब दूर तू जाती है

मिलती है जो तू ऐसे उल्फत की अदा लेकर
लगता है मेरे दिल की हर बात तू पढ़ती है

©RajeevSingh

शायरी – मुझे हर दर्द अब तेरा ही अहसास लगे

love shayari hindi shayari

रेत अब बूंद लगे और बूंद की प्यास लगे
हूं समंदर में मगर रेगिस्तां मुझे पास लगे

मेरी रूह पे रह गया मोहब्बत का निशां यूं
फासला तुमसे हुआ तो तुम मुझे पास लगे

देखते रह गए तेरी हसीन तस्वीर को हम
पल पल तेरा अक्स मुझे आंखों क पास लगे

दर्द में पाया तुझे और मैं रो पड़ा अक्सर
मुझे  हर दर्द अब तेरा ही अहसास लगे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल बता दे कि मेरी प्यास कितनी है बची

love shayari hindi shayari

जान कितनी है बची, सांस कितनी है बची
दिल बता दे कि मेरी प्यास कितनी है बची

क्या जरूरत है तुझे गर्दिशों के जुगनू की
हुस्न की ये रोशनी तेरे पास कितनी है बची

जब भी तुम याद करोगे मैं चला आऊंगा
मेरे अंदर तेरी ये तलाश कितनी है बची

कभी शायद मेरी भी गमे-दुनिया संवर जाए
मेरी जां, तेरे आने की आस कितनी है बची

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रोशनी के लिए तेरी याद जला लेते हैं

love shyari next

जख्म खाकर ही अपनी भूख मिटा लेते हैं
आंसू पीकर ही अपनी प्यास बुझा लेते हैं

झलकता है हर आईने में खुदगर्ज कोई
अपने चेहरे से हम आंखें हटा लेते हैं

मेरी रातों को दीपक की जरूरत ना रही
रोशनी के लिए तेरी याद जला लेते हैं

लोग मरते रहे जन्नत की खुशियों के लिए
और हम हैं कि अपना हर दर्द बढ़ा लेते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ये नजर-नजर की बात है कि किसे क्या तलाश है

love shyari next

ये नजर-नजर की बात है कि किसे क्या तलाश है
तू हंसने को बेताब है, मुझे रोने की ही प्यास है

तुम फूल देखते हो जब, रख लेते हो उसे तोड़कर
मेरे लिए हर फूल इस कुदरत का हसीं ख्वाब है

तुम चाहते हो लोग तुम्हें देखें और तारीफ करें
हम सोचते हैं दुनिया में वो करता झूठी बात है

इन चांद-तारों में है क्या, इन हसीं नजारों में है क्या
उसे क्या पता जिसकी नजर पर दौलत का नकाब है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है

love shyari next

अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है
अक्लवालों की महफिल में रोना अब नामुमकिन है

जिंदगी की हर गजल में लिखता रहा मैं दर्द को
जाने कब गम खत्म होगा कहना अब नामुमकिन है

प्यास नहीं कुछ पाने का और भूख नहीं है जीने का
इस छाती में दुख दुनिया का उठना अब नामुमकिन है

एक मुकम्मल इंसां बनना तन्हाई की मंजिल है
नर-नारी के इस दलदल में जीना अब नामुमकिन है

©RajeevSingh

शायरी – तुम जिस मोड़ पे दिखती हो जानेजां

new prev new shayari pic

जिंदगी की मंजिल मिल जाती है वहां
तुम जिस मोड़ पे दिखती हो जानेजां

मुद्दत से एक प्यास समंदर में कैद है
मेरी आंखों में खुद को पाओगी यहां

कितनी अंधेरी रातें तेरी याद में कटी
मेरी चांद हो जाओ अब हमपे मेहरबां

तुम मिल गई हो तो अब सोच रहा हूं
इस मुकाम से हम दोनों जाएंगे कहां

©rajeevsingh              शायरी

prev shayari green next shayari green