Tag Archives: फरियाद शायरी

शायरी – आशिक को इस तरह क्यों आजाद करती हो

love shyari next

टूटे रिश्ते को जोड़ने की फरियाद करती हो
क्यों अपना वक्त फिर से बर्बाद करती हो

इतनी दूर चला जाय कि वो वापस नहीं लौटे
आशिक को इस तरह क्यों आजाद करती हो

तेरी खामोशी ने जिसको खत्म कर दिया था
उस कहानी पर क्यों अब तुम बात करती हो

हम दोनों के रहगुजर अब अलग हो चुके हैं
मंजिल जो मिट गई उसे क्यों याद करती हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – क्या मांगू मैं खुदा से जब मेरे मन को तू मिल गया

love shayari hindi shayari

ना इश्क की फरियाद हो, ये सदा जुबां को याद हो
तुम दिल में यूं समा गए, अब दूर हो ना पास हो

क्या मांगू मैं खुदा से जब, मेरे मन को तू मिल गया
अब तेरे सजदे में सनम, मुझमें तेरी आवाज हो

किसको खबर तू कौन है, मुझे क्या खबर मैं कौन हूं
रहूं अजनबी खुद के लिए, तुझे जानने की प्यास हो

तेरे दर्द से भरी हुई, मैं राहों पे भटकी हुई
मुझे ले के चल उस जगह, जहां सिर्फ तेरा साथ हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे

prevnext

जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे
ऐसे दीवाने से आखिर क्यूँ कोई प्यार करे

रेत प्यासा सा तड़पता है हर साहिल पे
कितनी सदियों से वो लहरों का इंतजार करे

बाँटते रहते हैं वफा वो कई किश्तों में
बेवफाई का यहाँ जो भी कारोबार करे

चाहता हूँ, तेरे दामन का किनारा तो मिले
दिल भी आख़िर ये फरियाद कितनी बार करे

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जो आँखें न उठा सके मेरे दर्द की तरफ

prevnext

जब रो रहे थे हम अपने हालात पर
सब मुस्कुरा रहे थे जाने किस बात पर

हम जिंदगी की आग में यूं झुलस गए
कि यकीं नहीं होता अब बरसात पर

क्यूं हम कहीं पे जाएंगे तेरी तलाश में
जब घर नहीं बसाना दिले-बर्बाद पर

जो आंखें न उठा सके मेरे दर्द की तरफ
वो कान क्या देंगे मेरी फरियाद पर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – सीने में जब तेरी कोई याद न रही

new prev new next

सीने में जब तेरी कोई याद न रही
अब चांदनी रातों में भी वो बात न रही

तुम भूल चुके हो, आशिक थे तेरे हम
हम भूल चुके हैं जब तू साथ न रही

हंसते हैं, बोलते हैं, सोते भी हैं रात को
अब मेरे पास इश्क की सौगात न रही

बढ़ते ही जा रहे कदम भीड़ की तरफ
मैं क्या करूं जब तन्हा सी फरियाद न रही

©RajeevSingh