Tag Archives: फासला शायरी

शायरी – अगर दिल में कुछ गिला रखना

love shyari next

अगर दिल में कुछ गिला रखना
मुझसे मिलने का हौसला रखना

तुमको पाने की तमन्ना न पले
सबसे इतना ही फासला रखना

इश्क की प्यास जब तुझमें जगे
तुम मेरे सामने मसला रखना

मुहब्बत जवां रहे तेरे दिल में
अपने सीने में कुछ खला रखना

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – महसूस हुआ ये जब दुनिया में वो मिला

love shayari hindi shayari

महसूस हुआ ये जब दुनिया में वो मिला
कांटों की भीड़ में वो एक फूल सा खिला

कैसे बुझेगा जाने शबे-गम का इंतजार
बेसब्र सा एक चिराग फलक पे है जला

क्या खूब है जवानी और आलमे-तन्हाई
है दूर तलक उसकी ही यादों का सिलसिला

मिलता तो है करीब से पर बाकी है कसर
दूरी तो घट गई मगर अब भी है फासला

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जिंदगी मेरी मुहब्बत की जुदाई में कटी

love shayari hindi shayari

न बुराई में कटी, न भलाई में कटी
जिंदगी मेरी मुहब्बत की जुदाई में कटी

फासलों से ही आंखों से उनको देखा कीए
यूं ही कुछ माह निगाहों की लड़ाई में कटी

हमने गजलों में हुस्नो इश्क के नगमें सुने
मेरी रातें इन्हीं गीतों की पढ़ाई में कटी

उनसे बिछड़ा तो बची रह गई कुछ सांसें
जो मेरी बेकसी के साथ रुलाई में कटी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – थे करीब हम-तुम लेकिन बंदिशें थी बेहिसाब

love shayari hindi shayari

क्यूं है सर्द-सर्द चांद, क्यूं है जलता आफताब
क्यूं हैं ये खामोश तन्हा, कौन दे इसका जवाब

कुछ दिनों तक लिख न पाया मैं कोई भी गजल
उन दिनों मैं भूल गया करना जख्मों का हिसाब

तेरी यादों संग बैठा अपने चमन की वीरानी में
उजाड़कर ले गयी ये दुनिया मेरे बगीचे का गुलाब

फासला दो-चार कदम का तय न कर पाए कभी
थे करीब हम-तुम लेकिन बंदिशें थी बेहिसाब

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – वरना किनारों से ही दिल लगाते रहे हैं हम

love shyari next

देखें कि जमाने में क्या गुल खिलाते हैं हम
अब तक तो दर्द को ही उगाते रहे हैं हम

कश्ती के मरासिम से दरिया में आ गए
वरना किनारों से ही दिल लगाते रहे हैं हम

मुहब्बत की आग में जो जलके खाक हो चुके
उनमें भी कुछ धुएं को जगाते रहे हैं हम

नहीं जानता बेवफाओं से क्या रिश्ता हमारा
अब तक तो उनसे फासले बनाते रहे हैं हम

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

prev shayari next shayari

शायरी – कैसे मैं समझूं तुमको, कैसे तू समझे मुझको

love shyari next

तेरी आंखें जादू कर गईं, दिल में आंसू भर गईं
हंसती हुई जो मैं जिंदा थी, रोते-रोते मर गई

कैसे मैं समझूं तुमको, कैसे तू समझे मुझको
जब जुबां न बोलने की कसमें खाके अड़ गई

पास आने के लिए कितनी मोहलत चाहिए
एक मुद्दत से बहार आते-आते गुजर गई

फासलों में फासले हैं, हर जुदाई में हिज्रां
एक गम हैं सौ तरह के, झेलकर मैं मर गई

(हिज्रां- जुदाई)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे बिन हम दिलजले कभी चैन नहीं पाएंगे

prevnext

ये करवटों के सिलसिले कभी खत्म हो न पाएंगे
तेरे बिन हम दिलजले कभी चैन नहीं पाएंगे

ऐ चांद फासला बढ़ा, इतना कि तुम खो जाओ
तेरी हसीन चांदनी में उन्हें हम भूल नहीं पाएंगे

बरसात के मौसम में शराबें तो पी ली हमने
क्या खबर थी भीगकर हम नशे में रह नहीं पाएंगे

आखिर किसी मुकाम पर मेरे मंजिल का निशां होगा
तेरी ऊंगली थामे बिना वहां तक चल नहीं पाएंगे

©RajeevSingh

शायरी – अश्क में डूबी नज़र है, दर्द है खूने जिगर

new prev new next

इश्क की बाजी में हारे जाने कितने बाजीगर
इस तिजारत में बिके जाने कितने सौदागर

सिर्फ इतनी सी खला है मौत भी मुमकिन नहीं
अश्क में डूबी नज़र है और दर्द है खूने जिगर

फासला ही एक हकीकत और यही अंजाम है
फुरकतों की वादियों में है आशिकों का शहर

जिंदगी को एक बार नागिन ने जो डस लिया
अब असर करता नहीं दुनिया का कोई जहर

तिजारत – व्यापार
फुरकत – जुदाई

©RajeevSingh