Tag Archives: फितरत शायरी

शायरी – कैसी है आशिक की फितरत, क्या कहूं

new prev new shayari pic

कैसी है आशिक की फितरत, क्या कहूं
इसे सुकूने दिल से है नफरत, क्या कहूं

दिल लगाया तो अक्ल क्यों कम हो गई
नादानों सी हो गई है हरकत, क्या कहूं

जिंदगी का क्या होगा, कह नहीं सकता
किधर चली गई मेरी किस्मत, क्या कहूं

जमाने से वो आखिरकार इतनी डर गई
दे न सकी मिलने की मोहलत, क्या कहूं

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – हम करते रहे वफा, वो धोखा देना नहीं भूला

yellow prev yellow next

मेरा यार कभी मुझसे यारी निभाना नहीं भूला
जब भी मिला मौका, दिल दुखाना नहीं भूला

उसकी फितरत में बेवफाई इस कदर बसी थी
हम करते रहे वफा, वो धोखा देना नहीं भूला

दूध पिलाता रहा मैं एक आस्तीन के सांप को
आखिरकार वो एक दिन मुझे डसना नहीं भूला

जब देखा मासूमियत में छिपा खतरनाक चेहरा
जिंदगीभर मैं उस यार का बुरा सपना नहीं भूला

©rajeev singh shayari

शायरी – रास्तों में मिलते ही कतराते हैं लोग

love shyari next

मुझे देखकर ही डर जाते हैं लोग
रास्तों में मिलते ही कतराते हैं लोग

मेरी यारी जब किसी से बढ़ती है
पीठ पीछे उसे खूब समझाते हैं लोग

अगर भूल से कोई तारीफ करे मेरी
उस बात को वहीं दफनाते हैं लोग

मेरा दुश्मन जो कहीं पे मिल जाए
उसे तहे दिल से गले लगाते हैं लोग

सच कह देता हूं किसी के मुंह पर
मेरी इसी फितरत से घबड़ाते हैं लोग

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिसमें दर्द होता है, वो सच्चा प्यार करते हैं

prevnext

तन्हाइयों के गम आँखो से बहे जाते हैं
कुछ बात है दर्द में जो यूँ जीए जाते हैं
बहुत है तमन्ना कि एक मुस्कान चेहरे पे खिले
मगर तेरी उम्मीद में हम उदास हुए जाते हैं

सबको ऐतराज है दुनिया में मेरी फितरत पे
कि क्यूँ मैं तुमपे ये जाँनिसार करता हूँ
लोग कहते हैं कि सैकड़ों परियाँ हैं यहाँ
फिर जुदा होके क्यूँ तेरा इंतजार करता हूँ

दुनिया ये नहीं जानती कि जिनको दर्द होता है
वो जिस्म से नहीं, दिल से प्यार करते हैँ
और ऐसा दिल लाखों में किसी एक में रहता है
जिसमें दर्द होता है, वो सच्चा प्यार करते हैं

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – आईना दूर ना हो मुझसे, मैं तन्हा हूं

love shyari next

आईना दूर ना हो मुझसे, मैं तन्हा हूं
साथ रहने दे मेरा अक्स, मैं तन्हा हूं

कौन चाहेगी जमाने में दीवाने को
हुस्न दौलत है अमीरों को, मैं तन्हा हूं

प्यार करते हैं लेकिन वफा नहीं करते
देखकर उनकी ये फितरत, मैं तन्हा हूं

तूने हाथों में लगाए हैं गैरों से हिना
मेरा दामन रहा बेरंग, मैं तन्हा हूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari