Tag Archives: बंदिश शायरी

शायरी – शायद दोनों जुदा हो जाएं

love shayari hindi shayari


एक शहर में कितने घर हैं
तेरे घर हैं, मेरे घर हैं

तेरे अपने और मेरे अपने
सारे पत्थर, हम दो सर हैं

चार दीवारें, छत की दुनिया
बंदिश रस्मों के बिस्तर हैं

शायद दोनों जुदा हो जाएं
तुझमें-मुझमें बस ये डर है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – उनको होता है कभी भी सच्चा प्यार नहीं

love shayari hindi shayari

जिनकी नजर को किसी का इंतजार नहीं
उनको होता है कभी किसी से प्यार नहीं

बंदिशों में रहके ही मेरी जां दुआ कर लो
घर से बाहर तेरे खातिर कोई बेजार नहीं

तेरी दुनिया में कितना शोर है ऐ खुदा
यहां किसी को खामोशी की दरकार नहीं

तू पिलाती है नशा तो जिंदा हूं साकी
वरना इस दर्द में तो जीने के आसार नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो सुन ना सकी मेरी खामोश सदा

prevnext

ना बंदिशों में है, न मकानों में है
मेरा अंजाम बस आज़ाद पनाहों में है

दिल आँसू भी बहाए तो कोई बात नहीं
हँसी तो बेवफाओं के गुनाहों में है

जो सुन ना सकी मेरी खामोश सदा
वो नाजनीन मेरे दिल की दरगाहों में है

हम तो मुफ़लिस ही रहे मुसलसल
दोजख तो आज भी सैरगाहों में है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari