Tag Archives: बस्ती शायरी

शायरी – इतने खतरे उठा दोनों करते हैं प्यार

love shyari next

जबसे तुम हमसे आकर मिलने लगी
दुश्मनी हर किसी से अब होने लगी

दोनों को देखकर लोग हैं जल रहे
बस्ती में हर तरफ आग लगने लगी

इतने खतरे उठा दोनों करते हैं प्यार
मौत से भी मुहब्बत सी होने लगी

दुनिया होती है क्यूं इश्क से यूं खफा
मैंने जब ये कहा तो तू हंसने लगी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – जो पल गुजारे हमने तेरी याद में

love shyari next

बेदर्द ये रातें और हिज्र के मौसम
खुद पर खामोशी से मनाते हैं मातम

दिल में उठा अभी आंसू के तूफां
नजरों के रहगुजर में आया है सावन

बस्ती में कहीं पर निशां नहीं तेरा
हम ढूंढ़ रहे हैं कबसे तेरा आंगन

जो पल गुजारे हमने तेरी याद में
हर पल मिला है तेरे दर्द का दामन

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – कांटों ने ही अब तक हमको जीना है सिखाया

love shayari hindi shayari

खामोशियों की बस्ती में जिसने घर हो बनाया
उसने दर्द के गुलों से तन्हा कमरे को सजाया

सफर के रहगुजर से यही कहते चले अक्सर
कांटों ने ही अब तक हमको जीना है सिखाया

जिसकी हस्ती में वफा का नामोनिशां नहीं था
उसके लिए ही जाने क्यों दिल औ जां लुटाया

पेड़ों के पत्तों को है शायद गर्दिश से मुहब्बत
जो टूटकर पतझड़ के लिए खुद को मिटाया

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – इश्क की लहरों के भंवर में हमको एक दिन डूब है जाना

love shayari hindi shayari

दुनिया के इन शहरों से तुम गम की बस्ती दूर बसाना
आशिक मस्तानों की फितरत मेरे दिल तू भूल न जाना

उतर पड़े हैं समंदर में जज़्बातों की कश्ती लेकर
इश्क की लहरों के भंवर में हमको एक दिन डूब है जाना

चांद की चाहत में भटकता बादल भी तो फकीर हुआ
आसमां की बेमंजिल राहों पे देखो चलता रहा दीवाना

दर्द भरी मासूम आंखों में जबसे देखी है एक बेचैनी
करके याद उसकी सूरत को टूटके बिखरा है आईना

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – दुनिया को हम इस कदर दिल से ठुकराते हैं

love shayari hindi shayari

दुनिया को हम इस कदर दिल से ठुकराते हैं
इस खून की बस्ती में बस आंसू बहाते हैं

जिनके बगैर हमको आता नहीं चैन कभी
उनकी ही तरफ हम तो नजरें न उठाते हैं

जीने को आए हैं पर आखिर क्यूं आए हैं
ऐसे ही सवालों को हम सोचते रह जाते हैं

दम मेरा है घुटता इस भीड़ में अब रहके
बस चांद संग तन्हाई में हम सांस ले पाते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐ हुस्न तेरे दर्द में क्या-क्या न किए

love shayari hindi shayari

न बस्ती के रहे, न ही तेरे आशियां के रहे
हुस्न तेरे इश्क में हम अब कहीं के न रहे

कुछ रूह में जलता है, दिल में सुलगता है
बन सके न माहताब तो हम चिराग ही रहे

कितनी तमन्नाएं थीं मेरे ख्वाबों के दामन में
फुरकत के सिवा और कुछ न आखिर में रहे

ऐ रात न छीन मुझसे उनके दर्द के तोहफे
सब कुछ तो खो चुके हैं, चंद आंसू तो रहे

माहताब- चांद
फुरकत- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – कागज पे लिखी बातें भी दिल तोड़ देती हैं

love shayari hindi shayari

बंद कर दूं ये दरवाजे, लगा दूं ये खिड़कियां
फुरसत है, उन्हें यादकर ले लूं मैं हिचकियां

हमने बनाए जाने कितने सपनों के महल
हिज्र के तूफान ने उजाड़ दी है बस्तियां

कागज पे लिखी बातें भी दिल तोड़ देती हैं
उनकी खतें पढ़के निकलती है सिसकियां

तेरी यादों के गुलशन में बैठा मैं कई पहर
आंखों से उड़ती रही अश्कों की तितलियां

हिज्र- जुदाई
अश्क- आंसू

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – आह और दर्द बस तेरा तलबगार हुआ

love shayari hindi shayari


आह और दर्द बस तेरा तलबगार हुआ
आंख पत्थर हुई, अश्क आबशार हुआ

अमावस में बस जुदाई के सितारे हैं
चांद के बिन फलक भी दागदार हुआ

मेरी पलकों का झपकना बड़ा मुश्किल है
ऐसा तबसे है जबसे तेरा दीदार हुआ

सो रहे हैं इन मकानों के बाशिन्दे सभी
मैं जगा रहके बस्ती का गुनहगार हुआ

आबशार – झरना
फलक – आकाश


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कांटें मिले हैं जिसको उसे मैं दिलजला लिखूं

love shayari hindi shayari

इस दर्द की तारीफ में अब क्या गिला लिखूं
दिन-रात के फिराक का क्या सिला लिखूं

बस्ती में खिला फूल भी औरों का हो चुका
कांटे मिले हैं जिसको उसे दिलजला लिखूं

घर लौटते हैं किसलिए अपनों से लड़ते लोग
नहीं जानता उन्हें तो क्यूं बुरा भला लिखूं

मेरे सफर में रह सका न कोई मेरे साथ
तन्हाइयों को ही मैं अब सिलसिला लिखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अब कहां जाएं भला जब तुम हमें ठुकरा गए

love shayari hindi shayari

अपने दर को भूलकर तेरी गली में आ गए
अब कहां जाएं भला जब तुम हमें ठुकरा गए

गम जिसे कहते थे सब, मैं समझ न पाया कभी
जब हमें महसूस हुआ तब गम से मुरझा गए

जो किसी के सामने झुका नहीं इस दुनिया में
लो तुम्हारे इश्क में वो सर भी कटवा गए

अब बेवफा की राह से मेरी अलग एक राह है
इंसानों की बस्ती में हम भीड़ में तन्हा गए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हमसे अगर ये राज तुम बतलाओ तो जानूं

love shayari hindi shayari

ये साज जो तुम दे गए वो बज न पाते हैं
हम इश्क तुमसे कर गए पर कह न पाते हैं

मेरे कदमों के नीचे जो थोड़ी सी जमीन है
उस पर हम एक पल के लिए टिक न पाते हैं

हमसे अगर ये राज तुम बतलाओ तो जानूं
तेरी गली से अलग क्यूं कोई राह न पाते हैं

बस्ती की हर गली में तुम कैद में जीती हो
हम तो बिना उड़े हुए कभी जी न पाते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ये तेरी उदासी को किसी ने न मिटाया

love shayari hindi shayari

बस्ती में आज चांद छत पर नहीं आया
रब जाने कब हटेगा अमावस का साया

मंजर है इस फिजा का तनहाइयों में डूबा
अश्कों के सितारों से ही रातों को सजाया

जिसे देखना मेरी जिंदगी का एक सपना है
वो ही फकत शरमाके आंखें न मिलाया

कब तेरे लबों पर तबस्सुम की लहर हो
ये तेरी उदासी को किसी ने न मिटाया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रात गहरी हुई बस्ती बड़ा सुनसान हुआ

love shayari hindi shayari

रात गहरी हुई बस्ती बड़ा सुनसान हुआ
ऐसे माहौल से ही दिल मेरा गुलफाम हुआ

इन अंधेरों में गजल मैं किसपे लिखता
बड़ी मुश्किल से शमा का इंतजाम हुआ

तुम तसव्वुर से निकलकर रूबरू आओ
अब हकीकत ही जिंदगी का इम्तहान हुआ

क्या सुनाऊं मैं तुम्हें ये जरा खुलके बोलो
तेरी खामोशी से अब मैं तो परेशान हुआ

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari