Tag Archives: बिस्तर शायरी

शायरी – शाम भी रूठी तेरे बिना, रात भी रोयी तेरे बिना

new prev new shayari pic

शाम भी रूठी तेरे बिना
रात भी रोयी तेरे बिना

दिल को बहुत समझाया
समझा नहीं तेरे बिना

बिस्तर पे लेटी-लेटी
नींद न आई तेरे बिना

इश्क की बातें किससे कहूं
आंख भर आई तेरे बिना

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – शायद दोनों जुदा हो जाएं

love shayari hindi shayari


एक शहर में कितने घर हैं
तेरे घर हैं, मेरे घर हैं

तेरे अपने और मेरे अपने
सारे पत्थर, हम दो सर हैं

चार दीवारें, छत की दुनिया
बंदिश रस्मों के बिस्तर हैं

शायद दोनों जुदा हो जाएं
तुझमें-मुझमें बस ये डर है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जब मिल गए तुम राह में तो नजर की ये मजबूरी है

love shayari hindi shayari

जब मिल गए तुम राह में तो नजर की ये मजबूरी है
उठ जाए एक पल के लिए फिर झुकना भी जरूरी है

क्या कहूं इस बात पे कि क्यूं उदास हूं इस कदर
जब दर्द ना जवाब दे तो लब सीना भी जरूरी है

बिस्तर पे चाहे लेटिए या पत्थर पे ही सो जाइए
जब थक ही जाए जिस्म तो सो जाना भी जरूरी है

तुम छोड़के कहां जा रहे, सागर में रखे जाम को
क्यूं कह रहे कि कभी-कभी न पीना भी जरूरी है

सागर – पैमाना, प्याला

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari