Tag Archives: बूंद शायरी

शायरी – मैं तो टूटा आईना हूं

love shayari hindi shayari


मुद्दतों से तुमसे जुदा हूं
बूंद से सागर बना हूं

मुझमें अपना अक्स न देखो
मैं तो टूटा आईना हूं

जिस्म मेरा बर्फ का टुकड़ा
दिल का जलता आशियां हूं

हुस्न की एक आग हो तुम
और मैं इश्क का धुआं हूं


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत

love shayari hindi shayari

हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत
ऐसे में दिल-ए-आशिक कैसे रहे सलामत

एक बूंद दर्द में डूबा, तब बन गया समंदर
किसी बेवफा ने की थी उसपे कभी इनायत

सब सूख चुकी हैं वो गुलाब की पंखुरियां
संभाल के रखा था आखिरी तेरी अमानत

आंखों में जमा होके गिले-शिकवे हुए पानी
चेहरे पे बहता दरिया, आईने की है शिकायत

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – जिसने न जाना किसी से कभी वफा करना

love shayari hindi shayari

जिंदगी जब भी दर्द की पुकार सुनती है
मेरी नजर तेरे आने का इंतजार करती है

मुहब्बत के मौसम ने दिया है ये सिला
रेत में रोज ही बूंदों की बौछार गिरती है

जिसने न जाना किसी से कभी वफा करना
उसे आशिक न मिले तो बीमार पड़ती है

जिस शहर, जिस गली से गुजरता हूं मैं
दुनिया अक्सर तेरी चर्चा बेशुमार करती है

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – अपनी आंखों में उसे बांध कर भला मैं कैसे रखूं

love shayari hindi shayari

शाम तो रख लिया अब रात को मैं कैसे रखूं
इतने उदास लम्हों को एक दिल में कैसे रखूं

हाथ आए थे चंद अश्क, छिटक के भाग गए
अपनी आंखों में उसे बांध कर भला कैसे रखूं

यादों के बयार संग मेरे दिल तक चले आए हैं
इन गर्द गुबारों को इस जिगर में अब कैसे रखूं

बूंद बनकर जो मेरी आंखों से दर्द बहा ले गया
ऐसे सावन को तेरे तोहफे के लिए मैं कैसे रखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – शबनम तेरे सागर की एक बूँद ही तो है

prevnext

रू-ब-रू आग के जब आईने बन गए
आस्मा के दिल में तब एक चाँद बन गए

शबनम तेरे सागर की एक बूँद ही तो है
वही बूँद मेरी आँखों की जुबां बन गए

ख्वाबों के तमाशों से हम उबर नहीं पाए
इस मेले में खोकर यूँ गुमनाम बन गए

मजारों पे कितने ही शम्मे जलाए हमने
यादों के शहर भी अब श्मशान बन गए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिसे घेर लेंगे गम कई वो हँसेगा क्या, कहेगा क्या

prevnext

तेरा दर्द काली जुल्फ सा लहराएगा, बल खाएगा
मेरे सीने को अँधेरे में रेशम सा कुछ सहलाएगा

किस सादगी से आए हो ऐ चांद तूम मेरे सामने
अब आस्मा भी एक हसीन सा आईना कहलाएगा

जिसे घेर लेंगे गम कई वो हंसेगा क्या, कहेगा क्या
बस एक उदास सी शक्ल में वो लाश सा बन जाएगा

कहां खोजने जाएंगे हम वो आदमी जिसे इश्क हो
इस रेत की दुनिया में वो एक बूंद क्या मिल पाएगा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज इतना ही दर्द है कि मैं रो न सकूं

love shayari hindi shayari

आज इतना ही धुआं है कि मैं जल न सकूं
आज इतना ही दर्द है कि मैं रो न सकूं

अबके बरसात में इक बूंद भी हासिल न हुआ
इतना प्यासा हूं कि पानी को भी छू न सकूं

तेरे रिश्तों ने बुलाया है तुझे घर की तरफ
अब तो शायद तेरे दर पे कभी आ न सकूं

फिर तू ही ले आना कभी फूलों की चादर
तेरी यादों के दरीचे पे मैं अब सो न सकूं

©RajeevSingh #love shayari