Tag Archives: बेकदर शायरी

शायरी – मुझे बेकरार देखकर हंसती हो बेरहम

love shayari hindi shayari


इस दर्द को सीने में उठाया नहीं जाता
तेरे अंजुमन से उठके जाया नहीं जाता

मुझे बेकरार देखकर हंसती हो बेरहम
मरते को जहर तो पिलाया नहीं जाता

तेरी ही बेरूखी से बढ़ती है तिश्नगी
तुमको कभी मुझपे तरस खाया नहीं जाता

मैं बेकदर नहीं हूं तेरी तरह सनम
तुझपे नजर पड़ी है तो हटाया नहीं जाता


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – जिंदगी भर मैं उनके लिए तमाशा ही रहा

new prev new shayari pic

कुछ बेकदरों का जमघट था शहर में
उम्रभर मैं उनके लिए तमाशा ही रहा

मेरे गमों पर करता रहा वो छींटाकशी
हर कोई मेरे दर्द को ठुकराता ही रहा

मैं बहुत परेशां हुआ खुद को बनाने में
जब देखो जमाना मुझे मिटाता ही रहा

अपने वजूद की सच्चाई पाने के लिए
मैं जिंदगी को भीड़ से हटाता ही रहा

 

©rajeev singh shayari