Tag Archives: मंजर शायरी

शायरी – गम के मारों में तो समंदर छुपा होता है

new prev new shayari pic

इतना दर्द आंखों के अंदर छुपा होता है
गम के मारों में तो समंदर छुपा होता है

जिसे खुदा के सिवा किसी का खौफ नहीं
उसी शख्स में तो सिकंदर छुपा होता है

हुस्न के चेहरे से जब खामोशी छलकती है
वहीं सच्चे आशिक का मंजर छुपा होता है

ऐसी दुनिया में अकेले ही रह गए हैं जहां
रिश्तों की आस्तीन में खंजर छुपा होता है

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – कभी गली में वो दिखती नहीं

new prev new next

इश्क का ये उदास मंजर है
दर्द सीने में गड़ा खंजर है

वो हुस्न पिंजरे में बंद पंछी है
इधर दिल रोता घर के अंदर है

आंखें झरने की तरह गिरती हैं
जिस्म में भर गया समंदर है

कभी गली में वो दिखती नहीं
ये उम्मीद भी कितनी बंजर है

©RajeevSingh

शायरी – दर्द मिलता है इश्क के रहगुजर की कैद में

prevnext

जिंदगी की हर मंजिल मुकद्दर की कैद में
आज भी है मेरा साहिल समंदर की कैद में

कदम कदम पर चुभकर नश्तर ने ये कहा
दर्द मिलता है इश्क के रहगुजर की कैद में

जिस हसीं को देखकर गुम हो गया था मैं
खोया है तबसे दिल उसी मंजर की कैद में

रोते हुए बादल को है सदियों से ये खबर
जलती हुई चांदनी है एक पत्थर की कैद में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

 

शायरी – अपने खयालों में देखा जिनको

love shayari hindi shayari


दोनों चिरागों में दो समंदर
देखा है उनकी आंखों के अंदर

अपने खयालों में देखा जिनको
आज नजर में आए वो दिलबर

जुल्फें या आंखें, चेहरा या चितवन
हरसू हैं उनमें जलवों के खंजर

नाजुक बदन जब निकले फिजा में
खुशबू से भर जाए सारा मंजर


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में

love shayari hindi shayari

तुम्हारी यादों में ये कैसा जादू है
दिल के शहर में हालात बेकाबू है

तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में
करवटों से भरी ये रात बेकाबू है

मेरी तन्हाई है गवाह इस मंजर का
कि इन आंखों में बरसात बेकाबू है

कट रही है उम्र मेरी दोजख में
जिंदगी में ये भड़की आग बेकाबू है

(दोजख- नर्क)

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया

love shayari hindi shayari

है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया
तेरे दर्द से इस दिल को तबाह कर लिया

गम बहुत हैं जिंदगी में इसलिए जानेमन
खामोशी से ही प्यार बेपनाह कर लिया

मेरी नजर में हर जगह तुम ही बसी हो
जर्रे-जर्रे को इस मंजर का गवाह कर लिया

गुलाब के कांटों से भी रिश्ता रहा अपना
गुलशन में रहके सबसे यूं निबाह कर लिया

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – इश्क में दिल मेरे ये तो होना ही था

love shayari hindi shayari

आसमां देखने में खता हो गई
चांदनी आज मुझसे खफा हो गई

मेरे कदमों ने जिसपे भरोसा किया
राह अक्सर वही बेवफा हो गई

जिंदगी ऐसे मंजर दिखाती रही
मुझमें रोने की ताकत दफा हो गई

इश्क में दिल मेरे ये तो होना ही था
एक खुशी थी जो हमसे जुदा हो गई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं

love shayari hindi shayari

खंजर मेरे दिल को खून से तर कर दे
ऐ पत्थर मेरी आंखों में तू पानी भर दे

तू सूरज है, चंदा है, शम्मा भी है
मेरे अंधियारे जीवन में रोशनी भर दे

मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं
तू मेरे संग चले, ऐसा मंजर कर दे

रात बीते हैं जैसे गुजरते हैं सितम
तू कभी आके अमावस को पूनम कर दे

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – होठों पे तराने हैं और आंखों में आंसू

love shayari hindi shayari

दिल ही दिल में रोते हैं दर्द तेरा लेकर
सबको ये पता है, तुमको नहीं खबर

होठों पे तराने हैं और आंखों में आंसू
बहारों के मौसम में नजरों में पतझड़

वो हो गयी गैरों के आंगन की इज़्जत
दीवाने जरा देख ले गौर से ये मंजर

भले ही जुदाई का तुमपे न हो असर
हम रोए तुझे देखकर, रोएंगे बिछड़कर

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – दर्द का सैलाब ही आया था मेरी आंखों में

love shayari hindi shayari

तुमको देखा तो दुनिया का रास्ता न मिला
दुनिया देखी तो तेरे घर का रास्ता न मिला

खो गया आस्मा का चांद भी अमावस में
ऐसे मंजर में कोई हसीन आईना न मिला

चिरागे इश्क से उठता रहा देर तक धुआं
उस चिता में मेरे जिस्म का निशां न मिला

दर्द का सैलाब ही आया था मेरी आंखों में
जिसके बाद निगाहों को हादसा न मिला

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दीवाना तेरी दुनिया में कुछ दिन का मेहमान है

love shyari next

दिल जख्मी है, जिस्म खाक है और जेहन परेशान है
दीवाना तेरी दुनिया में कुछ दिन का मेहमान है

एक समंदर सैलाबों का, जलता हुआ एक सहरा सा
एक पैकर में शोला-शबनम, तेरी आंखों की शान है

हालत दुश्मन क्या समझेगा, जाने कब शमा बदलेगा
मौत के दर पे मैं खड़ा हूं, कैद में मेरी जान है

चांद सुलगता पत्थर है, रात का आलम बंजर है
मेरे लम्हों के मंजर में कोई सुबह न शाम है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो जवां होके महक जाए वो शबाब हुए

love shayari hindi shayari

जिसने मिट्टी से महक पाई वो गुलाब हुए
जो जवां होके महक जाए वो शबाब हुए

सोये पत्थर को जगाना आसां नहीं था
इसी कोशिश में तो ठोकरें बेहिसाब हुए

मेरा मंजर जो सुनहरा था, अब बेरंग हुआ
जैसे दरिया भी बिना चांद के उदास हुए

आग में हाथ जलाया तो मुझे खाक मिला
फिर हथेली पे माजी के कुछ दाग हुए

माजी – अतीत, past

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया

love shayari hindi shayari

रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया
आस्मा के मंजर में एक दर्द गूंजकर खो गया

गमजदा सूरत पे देखो मायूसी के साये हैं
जबसे हमको छोड़ गए हो, हुस्न हमारा खो गया

इश्क की बेताब लहरें बहुत सताती हैं हमें
बहते आंसू ये कहते हैं, वो समंदर खो गया

अब मेरी दीवानगी की इंतहा तो हो चुकी
ये निगाहें बुझ गई और ये जुबां भी खो गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari