Tag Archives: मंजर शायरी

शायरी – गम के मारों में तो समंदर छुपा होता है

new prev new shayari pic

इतना दर्द आंखों के अंदर छुपा होता है
गम के मारों में तो समंदर छुपा होता है

जिसे खुदा के सिवा किसी का खौफ नहीं
उसी शख्स में तो सिकंदर छुपा होता है

हुस्न के चेहरे से जब खामोशी छलकती है
वहीं सच्चे आशिक का मंजर छुपा होता है

ऐसी दुनिया में अकेले ही रह गए हैं जहां
रिश्तों की आस्तीन में खंजर छुपा होता है

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – कभी गली में वो दिखती नहीं

new prev new next

इश्क का ये उदास मंजर है
दर्द सीने में गड़ा खंजर है

वो हुस्न पिंजरे में बंद पंछी है
इधर दिल रोता घर के अंदर है

आंखें झरने की तरह गिरती हैं
जिस्म में भर गया समंदर है

कभी गली में वो दिखती नहीं
ये उम्मीद भी कितनी बंजर है

©RajeevSingh

शायरी – दर्द मिलता है इश्क के रहगुजर की कैद में

prevnext

जिंदगी की हर मंजिल मुकद्दर की कैद में
आज भी है मेरा साहिल समंदर की कैद में

कदम कदम पर चुभकर नश्तर ने ये कहा
दर्द मिलता है इश्क के रहगुजर की कैद में

जिस हसीं को देखकर गुम हो गया था मैं
खोया है तबसे दिल उसी मंजर की कैद में

रोते हुए बादल को है सदियों से ये खबर
जलती हुई चांदनी है एक पत्थर की कैद में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

 

शायरी – अपने खयालों में देखा जिनको

love shayari hindi shayari


दोनों चिरागों में दो समंदर
देखा है उनकी आंखों के अंदर

अपने खयालों में देखा जिनको
आज नजर में आए वो दिलबर

जुल्फें या आंखें, चेहरा या चितवन
हरसू हैं उनमें जलवों के खंजर

नाजुक बदन जब निकले फिजा में
खुशबू से भर जाए सारा मंजर


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में

love shayari hindi shayari

तुम्हारी यादों में ये कैसा जादू है
दिल के शहर में हालात बेकाबू है

तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में
करवटों से भरी ये रात बेकाबू है

मेरी तन्हाई है गवाह इस मंजर का
कि इन आंखों में बरसात बेकाबू है

कट रही है उम्र मेरी दोजख में
जिंदगी में ये भड़की आग बेकाबू है

(दोजख- नर्क)

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया

love shayari hindi shayari

है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया
तेरे दर्द से इस दिल को तबाह कर लिया

गम बहुत हैं जिंदगी में इसलिए जानेमन
खामोशी से ही प्यार बेपनाह कर लिया

मेरी नजर में हर जगह तुम ही बसी हो
जर्रे-जर्रे को इस मंजर का गवाह कर लिया

गुलाब के कांटों से भी रिश्ता रहा अपना
गुलशन में रहके सबसे यूं निबाह कर लिया

©RajeevSingh # love shayari