Tag Archives: मजबूर शायरी

shayari – मंजिल सामने थी मगर रास्ते कहीं खो गए

shayari latest shayari new

सपने शायरी इमेज

मंजिल सामने थी मगर रास्ते कहीं खो गए
हम तुम अपने घरों के वास्ते कहीं खो गए

एक बार दूर हुए तो फिर कभी मिल न सके
मजबूरियों में दो दिल के रिश्ते कहीं खो गए

निगाहों में छुपा दर्द ये जमाना देख न सका
महफिल में इस तरह हम हंसते कहीं खो गए

अपनों ने इतनी उलझनों में फंसा दिया कि
सारे सपने आहिस्ते आहिस्ते कहीं खो गए

shayari green pre shayari green next

Advertisements

दिल का रिश्ते में नफरत भी हो जाती है

shayari latest shayari new

घर से मजबूर हो जाए, ये मुमकिन है
वो कभी दूर चला जाए, ये मुमकिन है

दिल का रिश्ते में नफरत भी हो जाती है
यार भी दुश्मन बन जाए, ये मुमकिन है

इस दुनिया में जो अपनों से ठुकराए गए
कोई पराया उसे अपनाए, ये मुमकिन है

अब तेरे सामने मैं कोई सच नहीं कहता
बात तुमको बुरी लग जाए, ये मुमकिन है

©rajeevsingh       शायरी

shayari green pre shayari green next

शायरी – जहां दो दिल मिले, है दुनिया में वो दस्तूर कहां

new prev new shayari pic

है अंधेरा बहुत जिंदगी में मगर तेरा नूर कहां
है अधूरी मेरी कहानी और तुम हो दूर कहां

फासला है कितना इसका मुझे अंदाजा नहीं
थक चुका मैं इधर और उधर तू मजबूर कहां

अब तेरी झलक भी पाने की उम्मीद क्या हो
जहां दो दिल मिले, है दुनिया में वो दस्तूर कहां

इस दिलासे पर ही जिंदा है ये तनहा जिंदगी
भुगत रहा जो सजा, इसमें तेरा मेरा कसूर कहां

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – ये दर्द के कुसूर हैं, कि आप मेरे हुजूर हैं

#100 लव शायरी

ये दर्द के कुसूर हैं, कि आप मेरे हुजूर हैं

हम मांगने आए हैं वो जो देने को मजबूर हैं

नस-नस मेरा डूब रहा, सब आपके सुरूर हैं

हर अश्क आपके लिए और आप हमसे दूर हैं

 

  1. अपने भी, पराए भी, कुछ दूर के साथी हैं
  2. पल दो पल ये साथ हमारा, एक मुसाफिर एक हसीना
  3. जब-जब सितम तूने किया, हम सह गए दिल खोल कर
  4. ये हुस्न देखकर ही तो वो चाँद परेशान है
  5. जागता है कोई दर्द ही सोने की जगह

शायरी – मत कहिए जमाने से कि लगा है दिल का रोग

love shayari hindi shayari

सनम की आंखों में हम अपना दीदार कर बैठे
उनके रूबरू हम नजरों से यूं तकरार कर बैठे

मत कहिए जमाने से कि लगा है दिल का रोग
वो कहेंगे न था कोई काम तो ये रोजगार कर बैठे

दर्द की आदत से अब यूं मजबूर हो चुके हैं हम
अश्कों के खातिर तेरी यादों का जुगाड़ कर बैठे

हुस्न से इश्क का सदियों से ये राबता है कैसा
खाक होने के लिए वे एक-दूजे से प्यार कर बैठे

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – रातों में दर्द का बस ये कसूर होता है

love shayari hindi shayari

रातों में दर्द का बस इतना कसूर होता है
तेरी याद में आंखों का रोना जरुर होता है

मेरे सामने तू कुछ कह सकता नहीं
दिल से आखिर तू कितना मजबूर होता है

ऐसा लगता है मैं पागल हो जाऊंगी
ऐ खुदा इश्क में ये कैसा दस्तूर होता है

रास्तों पे चलते हुए रह जाती हूं तन्हा
तेरा दामन मुझसे जाने कितनी दूर होता है

©RajeevSingh # love shayari

 

 

शायरी – जा रहा हूं मैं जिंदा ही तेरी दुनिया से

love shayari hindi shayari

धूप में डूबके हसीन चांद निकल आया है
आग में जलके कोई आशिक निकल आया है

जो कफन ना दे मगर मौत की दुआएं दे
देख तेरे दर पे ये कौन दोस्त आया है

जा रहा हूं मैं जिंदा ही तेरी दुनिया से
तेरे गम से अब मेरा जी भर आया है

बेबसी साथ है लेकिन अभी मजबूर नहीं
अपनी तन्हाई में भी मुझको जीना आया है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आंसू भी छलक आए हैं मजबूर की तरह

love shayari hindi shayari

आंखों से चमकती हुई एक नूर की तरह
आंसू भी छलक आए हैं मजबूर की तरह

शब के अंधेरों में कोई शमा यूं जली
जुल्फों को सजाती हुई सिंदूर की तरह

सावन कहीं से आके बरसेगा जाने कब
दिल दर्द से जलता है तंदूर की तरह

दुनिया तुझे दांतों तले पीसेगी एक दिन
तुम बन चुके हो इश्क में अंगूर की तरह

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – क्या-क्या हो रहा सीने में ऐ दिल देखो

love shayari hindi shayari

दर्द पीना है मुझे, यूं ही जीना है मुझे
हरेक पल को आंसू सा गिराना है मुझे

क्या-क्या हो रहा सीने में ऐ दिल देखो
तुझे तेरा ही तमाशा दिखाना है मुझे

ना दोस्ती हो, ना कोई दुश्मनी हो कभी
इस जमाने से ये रिश्ता निभाना है मुझे

मैं भी मजबूर हूं कितना इस आदत से
रातभर चांद संग खुद को जगाना है मुझे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इश्क एक मजबूर ही इस जमीं पे कबसे है

new prev new shayari pic

चाँदनी बड़ी दूर ही आसमा पे कबसे है
इश्क एक मजबूर ही इस जमीं पे कबसे है

आज सुनता हूँ कहीं पर हो गया ये हादसा
प्रेमियोँ को फूँकने का रस्म यहाँ पे कबसे है

प्यार ये अपनों से भी भला क्यूँ करने लगे
खून के रिश्तों में भी दुश्मनी ये कबसे है

अक्ल से जो काम लेंगे, क्या करेंगे वो वफा
दिल को सौदागर बनाने का चलन ये कबसे है

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – जब-जब सितम तूने किया, हम सह गए दिल खोल कर

love shayari hindi shayari

मुझे देखकर मुंह फेर लो, ऐसी भी क्या तेरी बेरुखी
महफिल में दूर-दूर हो, ऐसी भी क्या तेरी बेबसी

मुड़के जो देखती हो तुम, मजबूर हो क्यूं दिल से तुम
मुझे इस तरह न तलाश कर कि बदनाम हो दीवानगी

जब-जब सितम तूने किया, हम सह गए दिल खोल कर
जालिम है तेरी हर अदा, कातिल है तेरी आशिकी

खत की तरह खामोश तुम, तेरा हुस्न ही मजमून है
तेरे नैनों पे गजल लिखी, तेरे नक्श में है शायरी

मजमून- खत के अंदर लिखी बातें

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – शीशे के खिलौनों से खेला नहीं जाता

love shayari hindi shayari

शीशे के खिलौनों से खेला नहीं जाता
रेतों के घरौंदों को तोड़ा नहीं जाता

जलते हुए दिलों की निशानी जो दे गया
कुछ ऐसे चिरागों को बुझाया नहीं जाता

बनती हुई तस्वीर तेरी चांद बन गई
अब मेरे तसव्वुर का उजाला नहीं जाता

अपनों ने उसे इतना मजबूर कर दिया
कि घर में सुकून से अब जिया नहीं जाता

तसव्वुर –  खयाल

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – सोलह दरिया पार की तब तेरा शहर मिला

love shyari next

तू नजीरे-हुस्न है, मैं मिसाले-इश्क हूं
तू खुदा की नूर है, मैं बुझा चराग़ हूं

है अभी मुझे यकीं, इस जनम में वस्ल हो
ये यकीं अस्ल हो, मैं अभी दुआ में हूं

सोलह दरिया पार की तब तेरा शहर मिला
तूने सुनी थी जो सदा, मैं वही आवाज़ हूं

आग में सुरुर है और दर्द भी मजबूर है
जल रहा हूं शौक से, मैं हिज्र का माहताब हूं

नजीरे हुस्न- sample of beauty

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari