Tag Archives: माजी शायरी

शायरी – रात देखा तुझे अहसास के झरोखों से

love shayari hindi shayari


रात देखा तुझे अहसास के झरोखों से
तुझे महसूस किया माज़ी की तस्वीरों से

लाल दरिया में डूबा था कलेजा मेरा
मैं बहुत रोया खूने-जिगर की आंखों से

मेरे लम्हें गुजर जाते हैं तुझमें खोकर
बेखुदी ऐसी है कि मैं सोया हूं पहरों से

इंतजारों की ये घड़ियां जाने कब थमे
मौत की बू सी आती है मेरी सांसों से

(माज़ी- अतीत)


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – वो मुसाफिर भी किसी मोड़ पे भला क्यूं रूकता

love shayari hindi shayari

वो मुसाफिर भी किसी मोड़ पे भला क्यूं रुकता
जिसके पैरों में न जंजीरें थी, वो भला क्यूं रुकता

कहीं माजी के इशारे पे मैं पीछे न मुड़ा
छूटे लम्हों की राहों पे आखिर मैं क्यूं चलता

दश्त में खौफ था फैला किसी आंधी का
ऐसे माहौल में एक पत्ता भी भला क्यूं हिलता

सामने आते ही जिसके मैं आईना बन गया
फिर मुझे खुद में उसके सिवा कोई क्यूं मिलता

(माजी- अतीत)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दूर मत जा ऐ मेरे गम, वो चले जाएंगे

love shyari next

दूर मत जा ऐ मेरे गम, वो चले जाएंगे
दर्द मिट जाएगा तो वो भी नहीं आएंगे

सब्र करके ही तो जिंदगी को जी रहे हैं हम
वरना बेचैनी है इतनी कि हम मर जाएंगे

कल जहां पानी था वहां रेत के टीले हैं बचे
क्या खबर थी कि मेरे दरिया भी सूख जाएंगे

शाम का आईना माजी का अक्स लाया है
आज फिर वो खयालों में मुझे मिल जाएंगे

माजी- अतीत, Past
अक्स- प्रतिबिंब, image

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दीवानगी ऐसी है कि दिन-रात की खबर नहीं

love shayari hindi shayari

जिंदगी के सफर में अब संग कोई रहबर नहीं
माजी के आईने में भी कोई अक्स मयस्सर नहीं

मेरे दर्द की निगाहों का ऐसा हुआ नजरो-करम
इन आंसुओं की बाढ़ में दिखता कोई मंजर नहीं

टूटा हुआ जुनून है, खोया हुआ सुकून है
दीवानगी ऐसी है कि दिन-रात की खबर नहीं

मुद्दतों से तलाश है पर दिल मेरा हताश है
मेरी जिंदगी की राह पे है एक भी पत्थर नहीं

रहबर- राह दिखाने वाला
माजी- अतीत, past life
मयस्सर- उपलब्धि, प्राप्ति
नजरो करम- कृपा

©RajeevSingh #love shayari