Tag Archives: मातम शायरी

शायरी – एक महबूबा की दुआएं रोती हैं

new prev new shayari pic

आसमान टूटता है, घटाएं रोती हैं
जब दिल टूटता है, निगाहें रोती हैं

रिश्तों के बाजार में भीख मांगती
प्यार की कितनी सदाएं रोती हैं

तनहाई के आलम में तकिए पर
एक महबूबा की दुआएं रोती हैं

दूर शहनाई की आवाज सुनकर
किसी की मातमी फिजाएं रोती हैं

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – जिंदगी का बिखर जाना अब आम बात है

love shayari hindi shayari

जिंदगी का बिखर जाना अब आम बात है
किसी मोड़ पर मर जाना अब आम बात है

खुशियों की खोज में लोग निकलते हैं शहर में
वहां से मातम लेकर आना अब आम बात है

तेरी दुनिया में ऐ खुदा अब छोटी सी बात पर
खत लिखके जहर खाना अब आम बात है

प्यार के परिंदे जो कहीं उड़ते हुए दिख जाएं
उनका कत्ल कर जाना अब आम बात है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जो पल गुजारे हमने तेरी याद में

love shyari next

बेदर्द ये रातें और हिज्र के मौसम
खुद पर खामोशी से मनाते हैं मातम

दिल में उठा अभी आंसू के तूफां
नजरों के रहगुजर में आया है सावन

बस्ती में कहीं पर निशां नहीं तेरा
हम ढूंढ़ रहे हैं कबसे तेरा आंगन

जो पल गुजारे हमने तेरी याद में
हर पल मिला है तेरे दर्द का दामन

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – इतने तन्हा हो चुके हैं इस दुनिया में

love shayari hindi shayari

आज दुख है, कल भी दुख का दिन होगा
इश्क में फकत ऐसा ही मौसम होगा

खूं ये जलता ही रहेगा मरते दम तक
दो आंखों में बहता हुआ तेरा गम होगा

इतने तन्हा हो चुके हैं इस दुनिया में
मेरी मैयत पे शायद ही मातम होगा

दर्द ही दर्द हर तरफ हैं डसने के लिए
क्या खबर थी कि ये दिल बेरहम होगा

©RajeevSingh #love shayari