Tag Archives: मुकाम शायरी

शायरी – तेरी बेवफाई का गिला कैसा

new prev new shayari pic

हम उस मुकाम पर नहीं होते
अजनबी रास्ते जहां नहीं होते

तेरी बेवफाई का गिला कैसा
धोखे दुनिया में कहां नहीं होते

ऐ हुस्न गर तू उदास न होती
तुम्हारे दीवाने वहां नहीं होते

हर टुकड़ा दर्द का कहता है
टूटे आईनों के जुबां नहीं होते

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – दीवानगी में न जाने कल कहां पे रहूँगा

love shayari hindi shayari

ये दिल किसी मुकाम पर ठहर न सका
मीलों तलक चला मगर मंजिल पा न सका

दीवानगी में न जाने कल कहां पे रहूंगा
आवारगी में अपना घर भी बना न सका

सर पे कफन है और जलता हुआ दिल है
चाहा बहुत पर जिस्म को खुद जला न सका

तड़पती हुई लहरों को शायद नहीं मालूम
साहिल की प्यास को वो कभी बुझा न सका

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल जो तोड़ा तो किया कोई बुरा काम नहीं

prevnext

दिल जो तोड़ा तो किया कोई बुरा काम नहीं
जानेमन तेरी मुकम्मल कोई दास्तान नहीं

जो अधूरा हो मगर फिर भी पूरा लगता हो
सिवाय इश्क के है ऐसा कोई मुकाम नहीं

मंजिलों के लिए मरते हैं वो मुसाफिर ही
जिनके सर पे आवारगी का इल्ज़ाम नहीं

कभी छोटी सी एक बात बुरी लगती थी
आज कितनी भी बड़ी बात से परेशान नहीं

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – लेकिन किसी की याद में मरना मुझे पड़ा

prevnext

इश्क में इस जिंदगी को जीना मुझे पड़ा
लेकिन किसी की याद में मरना मुझे पड़ा

कैसा मुकाम था जिसे छोड़ गए वो तन्हा
अक्सर उसी जगह पे रोज रोना मुझे पड़ा

चलिए अब तो मान लें, आप हैं दुश्मन मेरे
अफसोस है कि यार को ये कहना मुझे पड़ा

अब ये गुमाँ न रहा कि आईना है दिल मेरा
टूटकर पत्थर पे ही जब गिरना मुझे पड़ा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरा इश्क तो सरेआम है और दिल बड़ा बदनाम है

love shayari hindi shayari

जहान से अब जाने दो, इस मुकाम से अब जाने दो
कितने बरस तेरे बिन जीऊं, तेरा नाम लेकर जाने दो

तू मिली थी तो नसीब था कि मिला नहीं तुमसे कभी
मेरे दिल में जो दबी रही वो अरमान अब दफनाने दो

मेरा इश्क तो सरेआम है और दिल बड़ा बदनाम है
बेदाग से इस चांद पे कुछ दाग तो लग जाने दो

तू जो सामने आए कभी, तेरे सितम की मैं दाद दूं
और फिर कहूं तुझे अलविदा, कोई ऐसा पल आने दो

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – टूटने से जब दिल को तसल्ली न मिली

love shayari hindi shayari

इश्क के रूह पे इल्जाम हम ले के चले
एक तन्हा सा जो अंजाम हम ले के चले

टूटने से जब दिल को तसल्ली न मिली
जिंदगी से भी इंतकाम हम ले के चले

मंजिले छूट गई मेरा ही पीछा करते
ऐसे कितने ही मुकाम हम ले के चले

तुम भी शायद कभी ये इकरार करो
कि तेरे इतने एहसान हम ले के चले

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुम जिस मोड़ पे दिखती हो जानेजां

new prev new shayari pic

जिंदगी की मंजिल मिल जाती है वहां
तुम जिस मोड़ पे दिखती हो जानेजां

मुद्दत से एक प्यास समंदर में कैद है
मेरी आंखों में खुद को पाओगी यहां

कितनी अंधेरी रातें तेरी याद में कटी
मेरी चांद हो जाओ अब हमपे मेहरबां

तुम मिल गई हो तो अब सोच रहा हूं
इस मुकाम से हम दोनों जाएंगे कहां

©rajeevsingh              शायरी

prev shayari green next shayari green