Tag Archives: मौत शायरी

शायरी – दुख सहते हैं हम जिनके लिए

love shyari next

दुख सहते हैं हम जिनके लिए
हम तो अब गैर हैं उनके लिए

वो खामोश हैं, कुछ कहते नहीं
अब बचा क्या सुनने के लिए

तुम हंसकर जिए जाती हो
हम कहां जाएं रोने के लिए

तू न आई तो मौत आएगी
मुझे आगोश में लेने के लिए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – आईना ये बता कि और हम क्या-क्या देखें

love shayari hindi shayari

आंख में अश्क और सूरत पे उदासी देखें
आईना ये बता कि और हम क्या-क्या देखें

ढल रही शाम में उठती हैं अंधेरी लपटें
रात की आग में रोज चांद को जलता देखें

सुन रही हो तुम, मैं तुमको सदा देता हूं
मौत तक हम तेरे आने का रास्ता देखें

जिंदगी का कोई कोना अब कहीं न बचा
वज़ूद को अब हर सांस पे टूटता देखें

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जा रहा हूं मैं जिंदा ही तेरी दुनिया से

love shayari hindi shayari

धूप में डूबके हसीन चांद निकल आया है
आग में जलके कोई आशिक निकल आया है

जो कफन ना दे मगर मौत की दुआएं दे
देख तेरे दर पे ये कौन दोस्त आया है

जा रहा हूं मैं जिंदा ही तेरी दुनिया से
तेरे गम से अब मेरा जी भर आया है

बेबसी साथ है लेकिन अभी मजबूर नहीं
अपनी तन्हाई में भी मुझको जीना आया है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ये रोज ही होता है कि तुम याद आते हो

love shayari hindi shayari

फिर चोट खा गए हैं इस जख्मी जिगर पे
फिर आज रो रहे हैं हम गमगीन नजर से

ये रोज ही होता है कि तुम याद आते हो
दिल रोज कराहता है माज़ी के कहर से

बेजान से इस जिस्म को बस मौत चाहिए
पल-पल में मुंतजिर हूं मैं आठों पहर से

सौ बार जनाजा मेरा घर लौटकर गया
श्मशान भर गया था दुनिया के बशर से

माजी- अतीत
मुंतजिर-इंतजार में
बशर- इंसान

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इस हुस्न पे कभी भी कोई आंच न आए

love shayari hindi shayari


हमने भी जिंदगी को अब देख लिया है
कंधों पे ही सूली का जब बोझ लिया है

ये सर भी झुका लेंगे हम मौत के आगे
ताकि नहीं देखूं कि जहर किसने दिया है

इस हुस्न पे कभी भी कोई आंच न आए
कुछ इस तरह से तुमसे इश्क किया है

दुख से ही मेरी शायरी हसीन हो गई
हमने भी इस दर्द को एक चांद कहा है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – वफा का आईना जब तेरी नजर से गुजरा

love shayari hindi shayari


इश्क की आबरू हमने बचा लिया अक्सर
चिरागे-दिल से मुकद्दर जला लिया अक्सर

कौन चाहेगा कि खुद मौत को पीते जाएं
दर्द ने सबको शराबी बना दिया अक्सर

वफा का आईना जब तेरी नजर से गुजरा
तूने अपना हसीं चेहरा छुपा लिया अक्सर

करीब रहते हैं जो रातभर इस कलेजे में
चांद वो दिन में हमने बुझा दिया अक्सर

फूल जितने भी मायूस होके टूट चुके थे
उनसे अपना गुलशन सजा लिया अक्सर

गुनाह मैं पूरी तसल्ली से किया करता हूं
तेरा खंजर इस सीने पे चला लिया अक्सर


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari