Tag Archives: मौसम शायरी

शायरी – इन जख्मों को भरने में लगेंगे कई मौसम

love shyari next

इन जख्मों को भरने में लगेंगे कई मौसम
अभी तुमको भूलने में लगेंगे कई मौसम

तेरे इश्क में ये बहार एक पल में उजड़ गई
अब फूलों को खिलने में लगेंगे कई मौसम

सदमे मिले हैं जिनको दुनिया में बेवफाओं से
उनके आंसुओं को गिरने में लगेंगे कई मौसम

मुझे अपनी तो परवाह नहीं मगर तेरी बहुत है
इस फितरत को मिटने में लगेंगे कई मौसम

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां

love shyari next

आ जाओ, अब मौसम भी मस्त हो चला
खड़ा है तेरी राह में देखो एक दिलजला

आंखों की रोशनी से एक चांद बनाएं
आशियां में तारों सा हम जाएं झिलमिला

आओ तुझे बाहों में भरके प्यार करूं मैं
मिट जाए दोनों की तन्हाई का सिलसिला

इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां
तेरे हुस्न की आगोश में खोने को है चला

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – होठों पे तराने हैं और आंखों में आंसू

love shayari hindi shayari

दिल ही दिल में रोते हैं दर्द तेरा लेकर
सबको ये पता है, तुमको नहीं खबर

होठों पे तराने हैं और आंखों में आंसू
बहारों के मौसम में नजरों में पतझड़

वो हो गयी गैरों के आंगन की इज़्जत
दीवाने जरा देख ले गौर से ये मंजर

भले ही जुदाई का तुमपे न हो असर
हम रोए तुझे देखकर, रोएंगे बिछड़कर

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – इश्क छाया है जबसे मेरी निगाहों पे

love shyari next

इतने मसरूफ हैं हम खुद को ही मिटाने में
उम्र गुजरी है इस दिल को ही जलाने में

बेबस दर्द के आँसू बह जाए भी तो क्या
वक्त लगता नहीं छलक के सूख जाने में

इश्क छाया है जबसे मेरी निगाहों पे
बस अंधेरा ही नज़र आता है जमाने में

बरस चुका है सावन, बदल गया मौसम
फिर भी बादल हैं आकाश के खजाने में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इतने तन्हा हो चुके हैं इस दुनिया में

love shayari hindi shayari

आज दुख है, कल भी दुख का दिन होगा
इश्क में फकत ऐसा ही मौसम होगा

खूं ये जलता ही रहेगा मरते दम तक
दो आंखों में बहता हुआ तेरा गम होगा

इतने तन्हा हो चुके हैं इस दुनिया में
मेरी मैयत पे शायद ही मातम होगा

दर्द ही दर्द हर तरफ हैं डसने के लिए
क्या खबर थी कि ये दिल बेरहम होगा

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – सच्ची मुहब्बत दिल से मिटा दे, किसके बस की बात है

new prev new next

टूटे दिल को अक्ल सिखा दे, किसके बस की बात है
सच्ची मुहब्बत दिल से मिटा दे, किसके बस की बात है

उम्र गुजर जाती है पल-पल उनके यादों के मंजर में
फिर किसी से दिल लगा ले, किसके बस की बात है

रोज मैखाने में जाकर रोते हैं वो जुदाई में
पीकर कोई दिल बहला ले, किसके बस की बात है

लेकर आती हैं बहारें जीवन में फूलों का मौसम
पतझड़ का भी मन महका दे, किसके बस की बात है

©RajeevSingh

शायरी – बरस कर गया है अभी सर्द सावन

बरस कर गया है अभी सर्द सावन

ओलों से भर गया है मेरा दामन

गलेंगे नहीं ये बर्फ के टुकड़े

रहेंगे निगाहों में रखे सभी गम

शायरी – अपने इश्क की दर्द भरी कहानी

new prev new shayari pic

उठी जो सर्द हवा, रोज बरस गया पानी
आह भरके सावन की गुजर गई है जवानी

सुनाता रहता है मौसम का ये रोना मुझे
रोज अपने इश्क की दर्द भरी कहानी

Uthi jo Sard Hawa, Roj Baras Gaya Paani
AAh Bharke Saawan ki Guzar Gayi hai Jawani

Sunata Rahta Hai Mausam Ka Ye Rona Mujhe
Roj Apne Ishq Ki Ek Dard Bhari Kahani

©rajeev singh shayari