Tag Archives: रूह शायरी

शायरी – आग लगी है रूह के धागे में

love shyari next

एक सिलसिला सा चल रहा है
दिल आंसुओं में गल रहा है

कभी झांककर देखा अपने अंदर
हर तरफ वहां कुछ जल रहा है

आग लगी है रूह के धागे में
जिस्म मोम सा पिघल रहा है

बहुत साफ है मन का आईना
आंसुओं से जब वो धुल रहा है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – हर निशां, हर जख्म में तुम हो

love shyari next

दिल की बातें दिल में रह गए
आंसू बह गए, खूं भी जल गए

हर निशां, हर जख्म में तुम हो
जब याद आई, टीस उभर गए

रूह में इश्क की लगन लगी है
जिस्म की हर चाहत अब मर गए

जीवन भर अब सदमा रहेगा
इक अरमां था, वो भी बिखर गए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अजी हम मर गये थे आपके इशारे पे

love shayari hindi shayari

नजर में डूबके न आ सके किनारे पे
अजी हम मर गये थे आपके इशारे पे

गुजरती रात के आलम में चैन हो कैसे
निगाहें हैं टिकी उस चांद के नजारे पे

कहीं पे सब्र का पानी मिले तो मैं पी लूं
भटक रहा हूं मैं हर एक के चौबारे पे

मुझे भी दफ्न करो अपने दिल की तरह
कि रूह जीता रहे तेरे दर्द के सहारे पे

©RajeevSingh #love shayari

 

शायरी – रुखसत न हुआ गम तो दिल रूला बैठे

love shayari hindi shayari

लम्हों की आहटों में हर रात गुजरती है
एक चांद के साये में मेरी रूह जलती है

रुखसत न हुआ गम तो दिल रूला बैठे
रोका तो बहुत फिर भी ये आह निकलती है

तेरी आंखों में देखा था जो, वो दर्द उठा था
ये इश्क के आगाज की तस्वीर होती है

टूटा हूं मगर तुमसे मैं इस तरह जुड़ा हूं
मरता हूं मैं तेरे लिए, तू जान लेती है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – ऐ हुस्न तेरे दर्द में क्या-क्या न किए

love shayari hindi shayari

न बस्ती के रहे, न ही तेरे आशियां के रहे
हुस्न तेरे इश्क में हम अब कहीं के न रहे

कुछ रूह में जलता है, दिल में सुलगता है
बन सके न माहताब तो हम चिराग ही रहे

कितनी तमन्नाएं थीं मेरे ख्वाबों के दामन में
फुरकत के सिवा और कुछ न आखिर में रहे

ऐ रात न छीन मुझसे उनके दर्द के तोहफे
सब कुछ तो खो चुके हैं, चंद आंसू तो रहे

माहताब- चांद
फुरकत- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – आप मिलती तो मैं खुद से ना जुदा होता

love shayari hindi shayari


आपने अपना नामो-निशां छोड़ा होता
तो मेरे खत का लिफाफा नहीं कोरा होता

ये हकीकत है कि आप सा कोई ना मिला
आप मिलती तो मैं खुद से ना जुदा होता

मुझे पता है मेरी रूह में बस आप ही हैं
काश! आपकी रूह में मेरा भी पता होता

बह रही है जमीं पे चांदनी की नदी
तैरते साये का कोई तो किनारा होता


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे आगोश में मिटता है मेरा नामोनिशां

love shayari hindi shayari

बंद कर ली आंखें और लब थरथराए
आ गए करीब फिर तुम क्यूं शरमाए

दिन में कह लेना जो भी हो गिले शिकवे
तेरी खामोश जुबां मुझे रातों को समझाए

तेरे आगोश में मिटता है मेरा नामोनिशां
सिर्फ अहसास मेरी रूह बनकर रह जाए

जब तलक सामने ये तेरी हसीं सूरत है
तब तलक सारे जमाने का गम मर जाए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मयक़दे में आके शराबी, बन गया रे बन गया

love shayari hindi shayari

जिसको भी चाहा रे तुमने, खो गया रे खो गया
जिसको भी अपना माना, छल गया रे छल गया

खोजने निकला था मैं एक आशियाँ सुकून का
मयकदे में आके शराबी, बन गया रे बन गया

अब न वो दुनिया रही, अब न वो रिश्ते रहे
अपनी तन्हाई में मुहब्बत मिल गया रे मिल गया

ये दरो-दीवार मुझको कैद ना रख पाएगी
रूह तो पंछी है कोई, उड़ गया रे उड़ गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – लो मेरे वालिद तेरे कदमों में, हमने ये रूह गिरवी रख दी

prevnext

 

लो मेरे वालिद तेरे कदमों में
हमने अपनी रूह गिरवी रख दी

तूने बेबस को जमाना दिया
खेलने के लिए खिलौना दिया
रोटी-मकां का सहारा दिया
तेरे अहसानों के बदले
लो मेरे वालिद तेरे कदमों में
हमने ये रूह गिरवी रख दी

ये जिंदगी तेरी गुलामी में है
भुलूंगी जो खता जवानी में है
इस दिले-नादां का खूं कर दूँगी
जहाँ बाँधोगे, खुद को बाँध लूँगी
लो मेरे वालिद, तेरी इज़्जत के लिए
हमने अपनी रूह गिरवी रख दी

मेरे आशिक तुझे जख़्म दे रही हूँ मैं
बेवफाई का रस्म निभा रही हूँ मैं
आशिक को आँसू का सामां देकर
लो मेरे वालिद, तेरे कदमों में
हमने अपनी रूह गिरवी रख दी

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जिनको भी गमे-इश्क में मौत मिल गई

love shyari next

जिनको भी गमे-इश्क में मौत मिल गई
समझो कि उसे मरने से फुरसत मिल गई

ना रोक तू हमें अब पीने से ऐ वाइज
कुछ जाम से मेरे रूह को जन्नत मिल गई

श्मशान मुझे कांधे पे ले जाने के लिए
रिश्तों को भी किस्मत से मोहलत मिल गई

दिल को कभी देखा नहीं मुझमें तो किसी ने
पर मुझको हरेक शख्स से नफरत मिल गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अश्क भर-भर के रह गए हैं इन आंखों में

love shyari next

गम ही खाता हुआ और दर्द को पीता हुआ
जिस्म भी था मगर एक रूह को जीता हुआ

जल रहे शोले की मानिंद दिल की लकड़ी है
आग में जलके भी उस आग को सुलगाता हुआ

अश्क भर-भर के रह गए हैं इन आंखों में
तेरी सूरत का कंवल आईने को दिखलाता हुआ

मेरी दुनिया तेरी दुनिया से अलग है साकी
इश्क का मय ही इस रूह को पिलाता हुआ

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आई थी शाम बेकरार, आकर चली गई

love shyari next

आई थी शाम बेकरार, आकर चली गई
होना था बस इंतजार, होकर चली गई

साहिल से दूर एक लहर आती मुझे दिखी
आंखों से वो सागर पार, बहकर चली गई

आस्मा के सारे तारे टूटकर गिरते रहे
चांद जिनसे करके प्यार, बुझकर चली गई

दिल में दो रूहों का दर्द लेकर जी रहा
मुझपे अपना जां निसार दिलबर चली गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – निगाहों में महबूब की तस्वीर तो बन जाने दो

love shyari next

शाम तो ढल गई अब तो शमा जल जाने दो
ऐ खुदा चांद को घर से तो निकल जाने दो

कोई धरती पे नहीं जिसे देखूं मैं जी भरके
निगाहों में महबूब की तस्वीर तो बन जाने दो

तेरी खामोशी सहेजूंगी मैं जुदा रहकर
अपनी आवाज को तुम मुझमें तो खो जाने दो

अपनी मिट्टी से बनाऊंगी मैं मूरत तेरी
मेरे इस रूह को एक दीद तो मिल जाने दो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari