Tag Archives: रेत शायरी

शायरी – जिसने न जाना किसी से कभी वफा करना

love shayari hindi shayari

जिंदगी जब भी दर्द की पुकार सुनती है
मेरी नजर तेरे आने का इंतजार करती है

मुहब्बत के मौसम ने दिया है ये सिला
रेत में रोज ही बूंदों की बौछार गिरती है

जिसने न जाना किसी से कभी वफा करना
उसे आशिक न मिले तो बीमार पड़ती है

जिस शहर, जिस गली से गुजरता हूं मैं
दुनिया अक्सर तेरी चर्चा बेशुमार करती है

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

शायरी – तेरा दर्द आंसू में गिर पड़ा, पर मैं कभी रो न सका

new prev new shayari pic

ले चला तूफान ए इश्क, जाने कहां, किस देस में
भटका तेरी तलाश में आवारा दिल किस देस में

तेरा दर्द आंसू में गिर पड़ा पर मैं कभी रो न सका
तू नदी में जाके बुझ गई, मैं जलता ही रहा रेत में

जो मिला करे जुदा न हो, जो जुदा हो याद न आए
मुमकिन नहीं ये जहान में, समझा था बड़ी देर में

मैं फूल से जुड़ने को उसकी डाल का कांटा बना
वो फूल मुझे चुभती रही, रोया बहुत इस फेर में

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास है

love shayari hindi shayari

आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास है
बरसात में जलता दिल का चिराग है

तू तो बड़ा प्यासा है पर जानती हूँ मैं
समंदर नहीं तुमको रेतों की तलाश है

हर ओर से कयामत उठाया है जिगर ने
शायद ये मेरे खून में चढ़ता शबाब है

सावन का पपीहा भी रो-रो के थक गया
एक बूंद की खातिर वो इतना हताश है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मुझे हर दर्द अब तेरा ही अहसास लगे

love shayari hindi shayari

रेत अब बूंद लगे और बूंद की प्यास लगे
हूं समंदर में मगर रेगिस्तां मुझे पास लगे

मेरी रूह पे रह गया मोहब्बत का निशां यूं
फासला तुमसे हुआ तो तुम मुझे पास लगे

देखते रह गए तेरी हसीन तस्वीर को हम
पल पल तेरा अक्स मुझे आंखों क पास लगे

दर्द में पाया तुझे और मैं रो पड़ा अक्सर
मुझे  हर दर्द अब तेरा ही अहसास लगे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इस जमाने में जब मुहब्बत मिल जाएगा

love shayari hindi shayari

रेत पानी में उस वक्त घुल जाएगा
इस जमाने में जब मुहब्बत मिल जाएगा

हम ये कोशिश कई बार दुहराते तो हैं
पर किताबों से ये दिल क्या बहल पाएगा

आग से आती हुई गर्म हवाओं की तरह
आह निकले तो ये लहू भी जल जाएगा

वो जमाने में बुरा होके कुछ कैसे करे
कोई दीवाना क्या खुद को बदल पाएगा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – शीशे के खिलौनों से खेला नहीं जाता

love shayari hindi shayari

शीशे के खिलौनों से खेला नहीं जाता
रेतों के घरौंदों को तोड़ा नहीं जाता

जलते हुए दिलों की निशानी जो दे गया
कुछ ऐसे चिरागों को बुझाया नहीं जाता

बनती हुई तस्वीर तेरी चांद बन गई
अब मेरे तसव्वुर का उजाला नहीं जाता

अपनों ने उसे इतना मजबूर कर दिया
कि घर में सुकून से अब जिया नहीं जाता

तसव्वुर –  खयाल

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ये जख़्म तेरे सितम की पहचान बन गए

love shyari next

रेतों पे हर कदम निशान बन गए
ये जख़्म तेरे सितम की पहचान बन गए

आँसू पिलाके रूह को जिंदा तो कर लिया
अब प्यास है इतनी कि बेजान बन गए

अब तक तो मुझे तेरा सुराग न मिला
तुझे खोजने में खुद से ही अंजान बन गए

लंबी उमर थी लेकिन तेरे ही इश्क में
दुनिया में दो घड़ी के मेहमान बन गए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – खामोशियों के रिश्ते निभाना मुझे आता है

love shyari next

खामोशियों के रिश्ते निभाना मुझे आता है
हर दर्द से इस दिल को लगाना मुझे आता है

जो तुम हँसो हँसता हूँ, अगर रो दो तो रोता हूँ
जो जैसा है संग उसके जीना मुझे आता है

बंजर सी जमीं पर ही कबसे जी रहा हूँ मैं
इस रेत से अपना घर बनाना मुझे आता है

दुनिया में मुहब्बत का कतरा न मिला हमको
अब दुख भरे गीतों को गाना मुझे आता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज सब कुछ सूख गया है, रेतों में उम्मीद जगा के

love shyari next

बैठे-बैठे सोच रही हूं दीवारों से पीठ लगा के
खुद को मैं खोज रही हूं, सीने पे खंजर चला के

उम्मीदों का सावन कल तक, बरसा था दो आंखों से
आज सब कुछ सूख गया है, रेतों में उम्मीद जगा के

आने दो इन पंछियों को, आंगन में मैं अकेली हूं
मेरी तरह मुसाफिर हैं ये, जीते नहीं हैं शहर बसा के

अपनी दुनिया वो नहीं जिसमें दिल का नाम नहीं
कैसे जीएंगे हम भला फिर किसी से देह लगा के

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari