Tag Archives: लब शायरी

शायरी संग्रह – आई हूं घर लौटकर तो उलझी सी हूं

new prev new shayari pic

तुझे देखकर अचानक बेजान हो गई
तेरी आशिक नजर पे कुरबान हो गई

तुमको लबों से कुछ कह भी न सकी
इस कदर मैं दिल से परेशान हो गई

आई हूं घर लौटकर तो उलझी सी हूं
मेरी सुबह से जाने कब शाम हो गई

घरवाले पूछते हैं कि क्या हुआ है मुझे
मेरी जिंदगी तो अब इम्तहान हो गई

©rajeevsingh             हिंदी शायरी

prev shayari green next shayari green

Advertisements

शायरी – मुमकिन है वो साथ न आए

new prev new next

मुमकिन है वो साथ न आए
हाथ में उसका हाथ न आए

अब मुझको तुम भूल ही जाओ
उनके लबों पे ये बात न आए

तेरे बिना जो कट मरती हो
ऐसी कातिल ये रात न आए

प्यास बहुत है दिल में बाकी
दो दिन की बरसात न आए

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – जब कभी गम की रात आएगी, मेरी जां तेरी याद आएगी

prevnext

जब कभी गम की रात आएगी
मेरी जां तेरी याद आएगी

खुल ही जाएंगे लबों के ताले
तेरी चाबी जो हाथ आएगी

दिल का शीशा इंतजार में है
कोई पत्थर कब टकराएगी

मेरी आंखों से दूर मत जाना
फिर ये बरसात हो जाएगी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – लबों पे नाम है जिनका उन्हें कुछ भी खबर नहीं

love shayari hindi shayari

लबों पे नाम है जिनका उन्हें कुछ भी खबर नहीं
गजल में दर्द है जिनका उन्हें कुछ भी खबर नहीं

जुनूं की तितलियां उड़ती हैं दिल के नर्म फूलों पे
फिजा रंगीन है जिनसे उन्हें कुछ भी खबर नहीं

गमों की शाख पे कोई नशेमन बन नहीं पाता
खुशी के तिनके जो लाए उन्हें कुछ भी खबर नहीं

चला भी जाऊं मैं दुनिया से तो सब ये ही कहेंगे
जान ले गयी है जो उन्हें कुछ भी खबर नहीं

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जब मिल गए तुम राह में तो नजर की ये मजबूरी है

love shayari hindi shayari

जब मिल गए तुम राह में तो नजर की ये मजबूरी है
उठ जाए एक पल के लिए फिर झुकना भी जरूरी है

क्या कहूं इस बात पे कि क्यूं उदास हूं इस कदर
जब दर्द ना जवाब दे तो लब सीना भी जरूरी है

बिस्तर पे चाहे लेटिए या पत्थर पे ही सो जाइए
जब थक ही जाए जिस्म तो सो जाना भी जरूरी है

तुम छोड़के कहां जा रहे, सागर में रखे जाम को
क्यूं कह रहे कि कभी-कभी न पीना भी जरूरी है

सागर – पैमाना, प्याला

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – पलकों में रखे अश्क न गिर पाते आंख से

love shayari hindi shayari

छूते रहे वो दिल मेरा गजल की आग से
जलते रहे हम रातभर शायर की बात से

कहने लगे कि उनकी नज़र यूं उदास है
पलकों में रखे अश्क न गिर पाते आंख से

जाने की जिद पकड़ लिए वो आधी रात को
फिर रुक गए अचानक वो अपने आप से

यूं रोज ही जवां रहे महफिल इसी तरह
और आप गजल गाएं लबों के साज से

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – उन शाखों पे दिल ने आशियां बनाया

prevnext

ना होठ खुलते हैं, ना जाम मिलते हैं
इश्क के मयखाने में यही दास्तान मिलते हैं

उन शाखों पे दिल ने आशियां बनाया
जिनपे तिनकों के न कोई मकाँ मिलते हैं

मैं चल पड़ा हूं पगडंडियों पे अकेले
जहाँ ये जमीं न आसमान मिलते हैं

इस शहर में दिल का जीना बड़ा मुश्किल
यहाँ जख्म देनेवाले सरेआम मिलते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल का हर जख्म मिटाना था, मिटाया न गया

love shyari next

दिल का हर जख्म मिटाना था, मिटाया न गया
कोई मरहम जो लगाना था, लगाया न गया

मेरे माथे पे तेरे नाम की लकीरें न बनीं
फिर कभी भी कोई नाम लिखाया न गया

उँगलियाँ काट दूँ अपनी मगर ये हालत है
तुझे छूने की हसरत को भुलाया न गया

मेरी कमजोर जुबाँ ने तुमसे कुछ न कहा
हमसे अपने ही लबों को हिलाया न गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल की एक नाजुक कली पे दर्द के शबनम रखे हैं

love shayari hindi shayari

भीगी भीगी दो निगाहें, सहमे-सहमे लबों का जोड़ा
जुल्फें सावन सी घनेरी, सूरत पे हया का बसेरा

गोरे बदन की चांदनी से मौसम में फैला है उजाला
तेरे शबाब की आग में जलकर रोज आता है सबेरा

दिल की एक नाजुक कली पे दर्द के शबनम रखे हैं
मुसकानों की खुशबू में छुप जाता है हर गम तेरा

तन्हा सी मुसाफिर हो तुम, तेरी अदाओं में है उदासी
कोरे कागज सा सादा मन, तुम ही तो सपना हो मेरा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari