Tag Archives: लहू शायरी

शायरी – हम तो आवारा हुए हैं बस तेरे लिए

love shayari hindi shayari

दर्द से भागकर आखिर कहां जाओगे
अपने आंसू किस कूचे में छोड़ आओगे

रस्मे-दुनिया की जंजीरें अगर तोड़ोगे
अपने रिश्तों के लहू में जहर पाओगे

ऐ सनम इश्क में जान चली जाती है
वही दास्तां तुम फिर से दोहराओगे

हम तो आवारा हुए हैं बस तेरे लिए
इश्क की राह पर तुम भी भटक जाओगे

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है

love shayari hindi shayari

समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है
तेरी आंखें उस खूबसूरत सी लगती है

तेरे दामन सा फैला है उसका आंचल
उसकी जुल्फें तेरी लहरों सी लगती है

उसकी बाहों में खुशियों के मोती है
वह भी गहरी सी, गुमसुम सी लगती है

मासूम जज़्बातों के लहू से बनी है वो
उसकी परछाई तेरे पानी सी लगती है

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – ऐ हुस्न एक शम्मा जला दे जरा

love shayari hindi shayari

है चारों तरफ मेरे दिल में अंधेरा
हुस्न एक शम्मा जला दे जरा

चिट्ठी लिखूंगा उन्हें अब लहू से
ओ आंखें अब खूं तो बहा दे जरा

अब दिन-रात तेरे खयालों में हैं
इसे अब हकीकत बना दे जरा

गैरों के ताने जब दिल में चुभे
दिले-नादां तू मुस्कुरा दे जरा

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – इस जमाने में जब मुहब्बत मिल जाएगा

love shayari hindi shayari

रेत पानी में उस वक्त घुल जाएगा
इस जमाने में जब मुहब्बत मिल जाएगा

हम ये कोशिश कई बार दुहराते तो हैं
पर किताबों से ये दिल क्या बहल पाएगा

आग से आती हुई गर्म हवाओं की तरह
आह निकले तो ये लहू भी जल जाएगा

वो जमाने में बुरा होके कुछ कैसे करे
कोई दीवाना क्या खुद को बदल पाएगा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

prevnext

महसूस करेगा वो मेरे दर्द की जुबाँ
मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

पतझड़ की बारिशों में वो भीग गया है
अब धूप के लिए जलाएगा आशियाँ

लाएगा रंग इश्क ये उसमें इस तरह
अपनी चिता के वास्ते खोजेगा लकड़ियाँ

अपने ही लहू से लिखेगा मेरा नाम
अपने ही खंजर से तराशेगा ऊंगलियाँ

©RajeevSingh #love shayari