Tag Archives: शबनम शायरी

शायरी – मेरी खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं

love shayari hindi shayari

हमें तुम छोड़ गए हो, ये सोचा भी नहीं
जिसे तुम तोड़ गए हो, वो टूटा कि नहीं

तुम दामन में समेटती हो गैरों की वफा
मेरी खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं

तेरी पलकों में बसे थे दर्द के शबनम
उन निगाहों में अब कोई हया भी नहीं

तेरा अक्स जवां है किसी और के आईने में
मेरी किस्मत में अब तेरा साया भी नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – प्यासा है तू बरसों बरस से

love shayari hindi shayari

उसी मोड़ पे क्यूं आया मुसाफिर
जहां पर मैं पहले से ही खड़ी थी
पल भर में तुमसे इश्क हुआ था
पल भर ही तो निगाहें लड़ी थी

तुझे देखकर मुझे ऐसा लगा था
कि प्यासा है तू बरसों बरस से
आंखों में शबनम, जुबां पे खामोशी
सूरत में तेरे उदासी जड़ी थी

तूने भी मुझको नजर भर के देखा
मैंने भी तुमको जरा डर के देखा
कुछ तेरी आंखों में हमने पढ़ी थी
कुछ मेरी आंखों ने तुमसे कही थी

अगर मेरा तुमसे है कोई मरासिम
तो आओ चलें हम हसीं सफर पे
नहीं थी खबर ऐ नादां मुसाफिर
हमारे भी किस्मत में ऐसी घड़ी थी

मरासिम – संबंध

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अपने चेहरे से ये जुल्फें मुझे हटाने दो

love shayari hindi shayari

मेरी आंखों में एक चांद चमक जाने दो
अपने चेहरे से ये जुल्फें मुझे हटाने दो

भीग जाते हैं ये गाल तेरे शबनम से
मेरी उंगली को ये आंसू जरा मिटाने दो

तेरी खामोशी एक गम की गजल होती है
सारे गम को मेरे होठों पे बस जाने दो

जिंदगी है बड़ी बेदर्द मगर मैं तो नहीं
मुझे हर दर्द में संग अपने रो लेने दो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मैं तेरे वास्ते दुनिया के रंजो-गम उठा लूंगी

love shayari hindi shayari

मैं तेरे वास्ते दुनिया के रंजो-गम उठा लूंगी
कोई शोला उठा दिल में, उसे शबनम बना लूंगी

तेरे आने से ही तो मुहब्बत में रंग आई है
अपनी आंखों में इसी रंग का काजल लगा लूंगी

दिल के जलते दाग हैं मेरे दामन में बिखरे
अपने आंचल पे इसे तारों के मानिंद सजा लूंगी

है तेरे इश्क में दर्द भी, शिद्दत भरी उदासी भी
तेरी गर्दिश के साये में अपना जीवन बिता लूंगी

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – दे रहा हूं मैं ये इश्क की इम्तहां अपनी

love shayari hindi shayari

गमजदा रूह से लिखता हूं दास्तां अपनी
दे रहा हूं मैं ये इश्क की इम्तहां अपनी

मेरे सीने से छलकते हैं धड़कनों की सदा
आहटों की इस जुंबिश की है फुगां अपनी

अश्कों की झील में खिले फूल कई उम्मीदों के
वो समझ न सकी दर्द की ये जुबां अपनी

बंद आंखों में अटके रहे शबनम कितने
आईने से ये छुपाती हैं हर बयां अपनी

फुगां- रोना
जुंबिश- कंपन

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – तेरे दिल में छुपा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

love shayari hindi shayari

तेरे दिल में छुपा क्या है, खुदा जाने या तू जाने
लकीरों में लिखा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

खयालों का वो शहजादा जो तेरे पास आता है
तू पहचाने उसे कब तक, खुदा जाने या तू जाने

मेरी आहें छलकती हैं या खामोशी के हैं शबनम
निगाहों की सदा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

कभी मुझसे मिलोगी तो हकीकत खुल ही जाएगी
वो मोहलत आएगा कब तक, खुदा जाने या तू जाने

©RajeevSingh #love shayari