Tag Archives: शहनाई शायरी

शायरी – दर्द की बज रही है शहनाइयां

love shayari hindi shayari


निगाहों की शाम आ ही गई
जुदाई की रात आ ही गई

दर्द की बज रही है शहनाइयां
यादों की बारात आ ही गई

जलती है शम्मा हौले-हौले
मीठी सी आग आ ही गई

सन्नाटे में तो कुछ आता नहीं
करवटों की आवाज आ ही गई


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – दर्द है सीने में और जिस्म में तन्हाई है

love shayari hindi shayari


गम से याराना नहीं, गम से आशनाई है
दर्द है सीने में और जिस्म में तन्हाई है

एक सुरीली सी हवा तेरे दर पे ले आई
क्या खबर थी कि ये हिज्र की शहनाई है

अब उदासी ही दिखेगी मेरी सूरत में
अपनी ये तस्वीर मैंने तुमसे ही बनवाई है

आंख भर लेते हैं जब याद तेरी आती है
तेरे खातिर ही मैंने बांध ये खुलवाई है

हिज्र – जुदाई


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – फिर कहां खो गए छोड़के मुझको एक दिन

love shyari next

तुमको जाना ही पड़ा छोड़के मुझको एक दिन
दिल दुखाना ही पड़ा छोड़के मुझको एक दिन

तू परेशां है मेरे लिए दिल से अब भी
यूं भटकता ही गया छोड़के मुझको एक दिन

अब तो मुझमें भी एक शाम ढल आई है
जिसमें तू डूब गया छोड़के मुझको एक दिन

सुनके शहनाई मेरे दर से तुम लौट गए
फिर कहां खो गए छोड़के मुझको एक दिन

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हुस्न क्या चीज है, उन आंखों में डूबकर जाना

love shayari hindi shayari

हुस्न क्या चीज है, उन आंखों में डूबकर जाना
इश्क क्या होता है, अश्कों को बहाकर जाना

वो मुसलसल रहती है मेरे जिस्मो-जां में
अपने खयालों की किताबों को पढ़कर जाना

लुत्फ मिलता है गमे फिराक के मंजर में भी
हिज्र में चांद-सितारों के संग जागकर जाना

बुझ गया था वो चिराग मेरे जीवन का
मैंने शहनाई की आवाज को सुनकर जाना

गमे फिराक – जुदाई का गम
हिज्र – जुदाई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह

prevnext

दिल की तबियत खराब है कबसे
दवा ले के तू कभी आई तो नहीं

तू बेखबर मेरी नींद बर्बाद कर गई
रातभर तूने राहत दिलाई तो नहीं

दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह
जिस्म से मौत की ये सगाई तो नहीं

अब अंधेरा मिटेगा कैसे, तुम बोलो
तूने मेरे घर में शम्मा जलाई तो नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari