Tag Archives: श्मशान शायरी

शायरी – तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन

prevnext

अपने दिल के सनमखाने के हर जर्रे पे
आँसुओं से तेरे नाम लिखे हैं हमने
ये ख़ामोशी और दर्द के अफ़साने
कोरे कागज़ पे सजाए हैं हमने

ये जो पत्थर के बेदिल मकान हैं
इस दुनिया की गलियों के श्मशान हैं
तन्हाई के जिंदादिली के साये में
तुमको ख़यालों में बसाए हैं हमने

राहों के मुकद्दर में कई मुसाफिर हैं
पर मेरी पगडंडियों पे तू अकेली है
इस भीड़ भरी अंधेर नगरी में
तेरे नूर के माहताब जलाए हैं हमने

मेरी दीवानगी छलक न जाए आंखों से
हम हर फुगां को दिल में दबा लेते हैं
तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन
इसी उम्मीद में जख्म संभाले हैं हमने

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जिनको भी गमे-इश्क में मौत मिल गई

love shyari next

जिनको भी गमे-इश्क में मौत मिल गई
समझो कि उसे मरने से फुरसत मिल गई

ना रोक तू हमें अब पीने से ऐ वाइज
कुछ जाम से मेरे रूह को जन्नत मिल गई

श्मशान मुझे कांधे पे ले जाने के लिए
रिश्तों को भी किस्मत से मोहलत मिल गई

दिल को कभी देखा नहीं मुझमें तो किसी ने
पर मुझको हरेक शख्स से नफरत मिल गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – उसकी आंखों में तुमसे इश्क सा नजर आए

prevnext

दुख के श्मशान में एक कब्र है जीवन का
जिसे भी देखिए वो लाश सा नजर आए

दिल में हंसते हुए आए थे वो मैयत पे
चेहरे से जो गम में डूबे से नजर आए

जिन मजारों पे कोई फूल न दिखता हो
वो किसी आशिक के घर सा नजर आए

जो कफन को देखते हैं तेरे आंचल में
उसकी आंखों में तुमसे इश्क सा नजर आए

©RajeevSingh