Tag Archives: सच्ची शायरी

शायरी – जुर्म यहां छुपना है मुश्किल

new prev new shayari pic

जो उस खुदा का बंदा होगा
दुख में भी भला चंगा होगा

जुर्म यहां छुपना है मुश्किल
मुजरिम कभी तो नंगा होगा

दिल का जब भी राज चलेगा
फिर कैसे कहीं पे दंगा होगा

सच्ची राह जो शख्स है चुनता
उसका दुनिया से पंगा होगा

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – हम रोये तो ये जमाना समझ में आया

love shyari next

कभी अपनों ने, कभी दूसरों ने रुलाया
हम रोये तो ये जमाना समझ में आया

अपने मतलब के लिए इस्तेमाल करते हैं
कई इंसानों में हमने इस हुनर को पाया

प्यार में डूबी हुई अच्छी अच्छी बातें करके
वो न जाने कितनों का कत्ल कर आया

मगर कुछ लोग यहां ऐसे भी मिल जाते हैं
जिनको दूसरों पर अपनी जान लुटाते पाया

©RajeevSingh # muhabbat shayari

शायरी – अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है

love shyari next

अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है
अक्लवालों की महफिल में रोना अब नामुमकिन है

जिंदगी की हर गजल में लिखता रहा मैं दर्द को
जाने कब गम खत्म होगा कहना अब नामुमकिन है

प्यास नहीं कुछ पाने का और भूख नहीं है जीने का
इस छाती में दुख दुनिया का उठना अब नामुमकिन है

एक मुकम्मल इंसां बनना तन्हाई की मंजिल है
नर-नारी के इस दलदल में जीना अब नामुमकिन है

©RajeevSingh