Tag Archives: सफर शायरी

शायरी – प्यार के अहसास पर मर मिटा है दिल

love shyari next

सफर वहीं तक है जहां तक तुम हो
नजर वहीं तक है जहां तक तुम हो

हजारों फूल देखे इस गुलशन में मगर
खुशबू वहीं तक है जहां तक तुम हो

चांद और सूरज भी आके यही कहते हैं
रोशनी वहीं तक है जहां तक तुम हो

प्यार के अहसास पर मर मिटा है दिल
जिंदगी वहीं तक है जहां तक तुम हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – मगर फिर भी आंखों में तेरी सूरत का असर बाकी है

love shyari next


अंजाम ए मुहब्बत में बस इतनी कसर बाकी है
रोज मरने के अहसासों में जीने की लहर बाकी है

तुझे भूलने की कोशिश तो हम करते हैं रात-दिन
मगर फिर भी आंखों में तेरी सूरत का असर बाकी है

मेरी बर्बादियों को देखकर मुंह मोड़ गए सब लोग
इस हालत पे तरस खाने को बस तेरी नजर बाकी है

दुनिया की हर गली से चोट खाते हुए गुजर चुके
लेकिन तेरे संग चलने का वो आखिरी सफर बाकी है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तू नहीं आई एक बार जो गई

new prev new shayari pic

जागते-जागते सहर हो गई
इस सफर में ही बसर हो गई

रातभर रोज ही तमाशा किए
देखनेवाले की नजर सो गई

खोजता कौन है मुसाफिर को
तू नहीं आई एक बार जो गई

तेरे सिवा आखिर कौन है मेरा
ये सोचते हुए जिंदगी खो गई

सहर – सुबह

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – न आखिरी ख्वाहिश है बची

#100 दर्द शायरी

न आखिरी ख्वाहिश है बची

न आखिरी तमन्ना है कोई

 

बेखुदी में कटे ये दर्दे-सफर

राह में बेदर्द मिले न कोई

  1. वो गज़ल है जो मिली है कोरे कागज़ को
  2. अश्कों में डूबता हुआ जलता हुआ दिल है
  3. दिल के मसले पे न बनिए खुदगर्ज़ सनम
  4. जिस अज़नबी ने मुझको तलबगार किया है

शायरी – कांटों ने ही अब तक हमको जीना है सिखाया

love shayari hindi shayari

खामोशियों की बस्ती में जिसने घर हो बनाया
उसने दर्द के गुलों से तन्हा कमरे को सजाया

सफर के रहगुजर से यही कहते चले अक्सर
कांटों ने ही अब तक हमको जीना है सिखाया

जिसकी हस्ती में वफा का नामोनिशां नहीं था
उसके लिए ही जाने क्यों दिल औ जां लुटाया

पेड़ों के पत्तों को है शायद गर्दिश से मुहब्बत
जो टूटकर पतझड़ के लिए खुद को मिटाया

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – अंधेरी रात में तुम कभी ठोकर न खाओ

love shayari hindi shayari

सफर कट जाएंगे, बिछड़ के मर जाएंगे
तेरे बारे में लेकिन गजल कह जाएंगे

अंधेरी रात में तुम कभी ठोकर न खाओ
जहां पे तुम रहोगे, वहीं जल जाएंगे

न जुड़ पाया है हमसे ये टूटा आशियां भी
तेरे बिन ये हुनर हम कहां से पाएंगे

चले आए हैं लिखने इश्क की दास्तां हम
किताबों में ही हम-तुम संग रह जाएंगे

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – कांटें मिले हैं जिसको उसे मैं दिलजला लिखूं

love shayari hindi shayari

इस दर्द की तारीफ में अब क्या गिला लिखूं
दिन-रात के फिराक का क्या सिला लिखूं

बस्ती में खिला फूल भी औरों का हो चुका
कांटे मिले हैं जिसको उसे दिलजला लिखूं

घर लौटते हैं किसलिए अपनों से लड़ते लोग
नहीं जानता उन्हें तो क्यूं बुरा भला लिखूं

मेरे सफर में रह सका न कोई मेरे साथ
तन्हाइयों को ही मैं अब सिलसिला लिखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तस्वीर के मानिंद ही आँखों में आ जरा

love shayari hindi shayari

घूंघट उठा ऐ अजनबी, सूरत दिखा जरा
पर्दे की ओट में न छिप, बाहर निकल जरा

दिल के सफ़र में कट गई रातें जगी हुई
मुद्दत हुए सोया नहीं, लोरी सुना जरा

बढ़ती हुई ये धड़कनें, होती हुई तेज सांस
पसीने-पसीने हो गया, आंचल डुला जरा

राहत मिलेगी चंद पल तुझको निहारकर
तस्वीर के मानिंद ही आंखों में आ जरा

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – तन्हा ही रहने ही आदत है हमको

love shayari hindi shayari

तन्हा ही रहने की आदत है हमको तो लोगों से मिलके क्या करें
अपनी खबर जब हमको नहीं है तो किसके बारे में क्या कहें

 जब थे चले हम अपने सफर पे कोशिश तो की थी मिलने की सबसे
लेकिन हमें तब तज़रबा हुआ था कि इन बेवफाओं से क्या मिलें

देखा है जबसे नंगी हकीकत कपड़े पहनने कम कर दिए हैं
जरुरत है आखिर में एक कफन की तो जिस्म सजाके क्या करें

फक़ीरों के जैसा ही जीना मुनासिब, दिल की सोहबत में मरना अच्छा
लगता है वाज़िब तन्हा ही जीना तो दुनिया में जाके क्या जीएं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – बरस रहे हैं इश्क के बादल

new prev new shayari pic

दिल से जो निकलती हैं आहें
तुमको ही देती हैं रोज सदाएं

बरस रहे हैं इश्क के बादल
आओ हमदोनों इसमें नहाएं

उतना ही क्यों दूर जाती हो
हम तुम्हारे जितने पास आएं

तन्हा सफर को मंजिल मिले
कभी तो पूरी हो ऐसी दुआएं

©rajeevsingh             शायरी

prev shayari green next shayari green